15 सैनिकों की मौत व 12 के बंधक बनाए जाने के बाद आर्मीनिया ने रूस से मांगी मदद

येरवेन। आर्मीनिया और अजरबैजान के बीच हुई भीषण संघर्ष में आर्मीनिया के 15 सैनिकों की मौत हुई है, जबकि 12 सैनिकों को अजरबैजान के सैनिकों ने बंधक बना लिया है। आर्मीनिया ने अपने सैनिकों को छुड़ाने और कब्जाई जमीन को वापस दिलवाने में रूस से मदद मांगी है। बताया जाता है कि अजरबैजान की सेना ने आर्मीनिया के दो इलाकों पर कब्जा कर लिया है।

और पढ़ें : चीन-भारत के साथ ‘सीमा युद्ध’ लड़ रहा, अन्य पड़ोसियों के लिए भी खड़े किए गंभीर खतरे : कॉर्निन

पिछले साल नागोर्नो-कराबाख को लेकर दोनों देशों के बीच 44 दिनों तक युद्ध चला था। इस युद्ध में कम से कम 6500 लोग मारे गए थे, जबकि 10000 से अधिक लोग घायल हुए थे। युद्ध अजरबैजान के लिए एक निर्णायक जीत के साथ समाप्त हुआ था। युद्ध में इजरायल और तुर्की ने खुलकर अजरबैजान की मदद की थी, जबकि रूस ने आर्मीनिया की हिचक के साथ मदद की।

उस समय रूस की मध्यस्थता और नागोर्नो-कराबाख में लगभग 2,000 शांति सैनिकों को तैनात करने के बाद यह संघर्ष खत्म हुआ था। आर्मीनिया के रक्षा मंत्रालय के हवाले मीडिया रिपोर्टों में बताया गया है कि अजरबैजान की सेना ने तोपों, छोटे हथियारों और आर्मर्ड व्हीकल से आर्मेनियाई सेना पर हमला बोला। इस हमले में उनके 15 सैनिक मारे गए हैं जबकि 12 पकड़े गए।

Advertisement

आर्मेनिया की सुरक्षा परिषद के सचिव आर्मेन ग्रिगोरियन ने कहा चूंकि अजरबैजान ने आर्मेनिया के संप्रभु क्षेत्र पर हमला किया है, इसलिए, हमने रूस से, मौजूदा 1987 (आपसी रक्षा) समझौते के आधार पर आर्मेनिया की क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा करने का आग्रह किया है। रूस का आर्मेनिया में सैन्य अड्डा है और नागोर्नो-कराबाख में शांति सेना भी मौजूद है। अर्मेनिया की अपील पर रूस ने तत्काल कोई प्रतिक्रिया नहीं की है।

Advertisement

अजरबैजान के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि उसने आर्मीनियाई पक्ष की ओर से बड़े पैमाने पर उकसावे की कार्रवाइयों का जवाब देने के लिए सैन्य अभियान शुरू किया था। अजरबैजान ने आर्मीनिया के सैन्य और राजनीतिक नेतृत्व को विवाद बढ़ाने के लिए दोषी ठहराया है। अजरबैजान ने कहा कि आर्मीनियाई बलों ने तोपखाने और मोर्टार फायर के साथ हमारी सेना की चौकियों पर गोलाबारी की, जिसके जवाब में हमारी सेना ने कार्रवाई की।

इसे भी देखें : भगवान बिरसा मुंडा के जन्म दिवस को ‘जन-जातीय गौरव दिवस’ के रूप में मनाया जाएगा

This post has already been read 21465 times!

Related posts