तालाबंदी : विद्यार्थियों की मांगों को लेकर एन.एस.यू.आई ने फार्मेसी काउंसिल में किया तालाबंदी

स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता जी ने तुरंत काउंसिल को जल्द निर्णय लेकर छात्र हित में फैसला लेने को कहा।

कांग्रेस छात्र संगठन झारखंड एन.एस.यू.आई के प्रदेश उपाध्यक्ष इंदरजीत सिंह के नेतृत्व में डिप्लोमा इन फार्मेसी के विद्यार्थियों ने बरियातू स्तिथ फार्मेसी कॉउंसिल के चेयरमैन जादुनाथ मार्डी का घेराव किया एवं कार्यालय में तालाबंदी की साथ ही धरना प्रदर्शन भी किया गया।
विदित हो कि डिप्लोमा इन फार्मेसी के सत्र 2017- 19 के फाइनल ईयर के विद्यार्थियों का अभी तक परीक्षा नही लिया गया है। जिस कारण छात्र अपने भविष्य को लेकर चिंतित है।

इसे भी देखे : चोरी की वारदात में ऐसे ऐसे समान चुराए गए जिसे सुनकर पुलिस भी हैरान है, समेत पांच ख़बरें

4 बार परीक्षा की तिथि निकाली गई लेकिन कुछ न कुछ निजी कारणों से स्थगित कर दिया गया। 2 साल बीत जाने के बाद भी छात्र अभी तक परीक्षा से वंचित है। ऑनलाइन परीक्षा के नाम पे प्रति स्टूडेंट 5000 रुपये मांगे जा रहे थे। चेयरमैन द्वारा विद्यार्थियों को अभद्र भाषा का प्रयोग किया जाता है। विद्यार्थियों द्वारा आवाज उठाने पर रजिस्ट्रेशन रोक देने की धमकी दी जाती है। इस सभी मामलों को लेकर एन.एस.यू.आई के प्रदेश उपाध्यक्ष इंदरजीत सिंह पूरी टीम के साथ कौंसिल पहुंचे एवं घेराव कर तालाबंदी की।

इसे भी देखे : चतरा पुलिस को मिली अफीम तस्करों के खिलाफ बड़ी सफलता

बाद में इंदरजीत सिंह ने कॉउंसिल की सारी बातों को झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता जी को बताया। मंत्री जी ने तालाबंदी समाप्त करने को कहा एवं कॉउंसिल के सभी पदाधिकारियों एवं विद्यार्थियों को अपने कार्यालय बुलाया। मंत्री जी ने सभी की बातों को सुना एवं तुरंत फार्मेसी कॉउंसिल के चेयरमैन को छात्र हित मे निर्णय लेने को कहा एवं जल्द से जल्द सभी मांगों को पूरा करने का वादा किया। मौके पर विद्यार्थियों ने स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता जी एवं NSUI के लोगो का धन्यवाद किया।

इंदरजीत सिंह ने कहा कि एन.एस.यू.आई हमेसा छात्र हित में लड़ाई लड़ते आयी है और आगे भी हमेसा छात्रों को उनका हक दिलाते रहेगी।

मौके पर इंदरजीत सिंह, आरुषि वंदनां, अमन यादव, राहुल महतो, आकाश, विक्रम, सादाब, मोजाहिद, अली एवं सैकड़ो विद्यार्थी उपस्थित थे।

This post has already been read 2138 times!

Related posts