हजारों करोड़ रुपये के कारोबार वाले किर्लोस्कर ब्रदर्स ग्रुप में पारिवारिक विवाद शुरू हो गया है

New Delhi : संजय किर्लोस्कर की अगुवाई वाली किर्लोस्कर ब्रदर्स लि. ने आरोप लगाया है कि उनके भाइयों अतुल और राहुल के तहत आने वाली चार कंपनियां उसकी 130 साल की विरासत को छीनने और जनता को गुमराह करने का प्रयास कर रही हैं.
पानी के पंंप सेट जैसे कई उत्पादों के लिए प्रख्यात ब्रैंड है किर्लोस्कर पानी के पंंप सेट जैसे कई उत्पादों के लिए प्रख्यात ब्रैंड है किर्लोस्कर


और पढ़ें :लावारिस पड़ी है 49 हजार करोड़ की रकम, SBI में सबसे ज्यादा 3,578 करोड़ रुपए पड़े हैं

पानी के पंप से जुड़ा मशहूर ब्रैंड
अब विरासत को लेकर लड़ाई शुरू
हजारों करोड़ रुपये के कारोबार वाले किर्लोस्कर ब्रदर्स ग्रुप में पारिवारिक विवाद शुरू हो गया है. संजय किर्लोस्कर की अगुवाई वाली किर्लोस्कर ब्रदर्स लि. ने आरोप लगाया है कि उनके भाइयों अतुल और राहुल के तहत आने वाली चार कंपनियां उसकी 130 साल की विरासत को छीनने और जनता को गुमराह करने का प्रयास कर रही हैं.
हालांकि, दूसरे पक्ष ने इन आरोपों को नकार दिया है. परिवार में विवाद गहराने के बीच केबीएल ने बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) को लिखे पत्र में दावा किया है कि किर्लोस्कर ऑयल इंजन्स (केओईएल), किर्लोस्कर इंडस्ट्रीज लि. (केआईएल), किर्लोस्कर न्यूमैटिक कंपनी (केपीसीएल) और किर्लोस्कर फेरस इंडस्ट्रीज लि. (केएफआईएल) ने केबीएल की विरासत को छीनने या दबाने का प्रयास किया है.
किर्लोस्कर एक प्रतिष्ठ‍ित ब्रैंड


इसे भी देखें : विराट और विराज, उम्र 7 साल, कारनामा : इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में नाम दर्ज

सिंचाई के लिए काम आने वाले पंप सेट, पानी के मोटर आदि के लिए किर्लोस्कर एक प्रतिष्ठ‍ित ब्रैंड है. इसके देश-विदेश में करीब 14 कारखाने हैं. किर्लोस्कर ब्रदर्स करीब 1.56 लाख करोड़ रुपये वैल्यूएशन वाली की कंपनी है.
न्यूज एजेंसी के मुताबिक इस लेटर में कहा गया है कि इसके अलावा उन्होंने केबीएल की विरासत को अपनी विरासत के रूप में दिखाने का प्रयास किया है. इस बारे में संपर्क करने पर किर्लोस्कर इंडस्ट्रीज लि. के प्रवक्ता ने कहा कि केबीएल के सेबी को पत्र में कई प्रकार की तथ्यात्मक गलतियां हैं. प्रवक्ता ने कहा कि पूरे बयान में केबीएल का जिक्र नहीं किया गया है. किर्लोस्कर ब्रदर्स की विरासत को छीनने का प्रयास तो दूर की बात है.
क्या है आपत्ति
इससे पहले 16 जुलाई को अतुल और राहुल किर्लोस्कर की अगुवाई वाली पांच कंपनियों ने अपने संबंधित कारोबार के लिए नए सिरे से प्रक्रिया शुरू करने की घोषणा की थी. इन कंपनियों के लिए नए ब्रांड पहचान और रंगों की घोषणा की गई थी, साथ ही नया किर्लोस्कर लोगो भी अपनाया गया था. इस घोषणा के समय कहा गया था कि ये रंग 130 बरस पुराने नाम की विरासत को दर्शाते हैं.
केबीएल ने इसी पर आपत्ति जताते हुए सेबी को पत्र लिखा है. पत्र में कहा गया है कि केओईएल, केआईएल, केपीसीएल और केएफआईएल की स्थापना क्रमश: 2009, 1978, 1974 और 1991 में हुई है और उनकी 130 साल पुरानी विरासत नहीं है.

This post has already been read 2271 times!

Related posts