देश छोड़ने की जद्दोजहद में उड़ती फ्लाइट से फिसलकर गिरे तीन अफगान नागरिक, देखें Video

अफगानिस्तान (Afghansitan) में तालिबान (Taliban) के कब्जे के बाद से बड़ी संख्या में लोग देश छोड़कर भाग रहे हैं. इसी बीच काबुल एयरपोर्ट (Kabul Airport) से रवाना हुए एक विमान से तीन यात्री नीचे गिर गए हैं. ये यात्री विमान के अंदर घुसकर जगह नहीं बना पाए थे. इसके बाद ये लटके हुए थे. वहीं, जब विमान ने हवा में उड़ान भरी तो ये लोग आसमान में से नीचे गिरने लगे (Three People Fell form Plane). इस घटना का वीडियो सामने आया है, जिसमें तीनों लोगों को गिरते हुए देखा जा सकता है. राजधानी काबुल पर तालिबान के कब्जे के बाद से ही हालात बेहद खराब हो चुके हैं. लोग देश छोड़ने के लिए एयरपोर्ट का रुख कर रहे हैं.

और पढ़ें : एक बार में 1600 किमी का सफर,न पेट्रोल भरवाने की जरूरत न चार्ज करने की

युद्धग्रस्त मुल्क के अलग-अलग बॉर्डर क्रासिंग पर तालिबान के कब्जे के बाद से ही लोगों के पास बाहर निकलने के लिए कोई जमीनी रास्ता नहीं बचा है. ऐसे में काबुल एयरपोर्ट ही एकमात्र ऐसा जरिया है, जिसके रास्ते लोग वतन छोड़कर सुरक्षित स्थान पर जा सकते हैं. यही वजह है कि बड़ी संख्या में लोगों का हुजुम एयरपोर्ट की ओर बढ़ रहा है. सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में देखा जा सकता है कि लोगों की भारी भीड़ एयरपोर्ट की ओर भाग रही है. वहीं, कुछ वीडियो में देखा गया है कि लोग एक-दूसरे पर चढ़ते हुए विमान तक जाने का प्रयास कर रहे हैं. इसे देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि काबुल में वर्तमान हालात कैसे हैं.

काबुल एयरपोर्ट पर हुई गोलीबारी
वहीं, समाचार एजेंसी रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, काबुल एयरपोर्ट पर मौजूद एक चश्मदीद ने बताया है कि यहां पर हुई गोलीबारी (Kabul Airport Firing) में कम से कम पांच लोगों की मौत हुई है. उसने बताया कि सैकड़ों लोगों ने जबरन अफगानिस्तान की राजधानी छोड़ने वाले विमानों में प्रवेश करने की कोशिश की. इस दौरान उन पर गोलियां चलाई गईं. वहीं, एक अन्य चश्मदीद ने बताया कि उसने पांच लोगों के शवों को वाहनों में रखकर ले जाते हुए देखा है. काबुल एयरपोर्ट का नियंत्रण अमेरिकी सैनिकों के हाथों में हैं. वहीं, इस मामले पर अमेरिकी अधिकारियों ने कोई टिप्पणी नहीं की है.

अफगानिस्तान में समावेशी इस्लामी सरकार चाहता है तालिबान
दूसरी ओर, तालिबान के प्रवक्ता सुहैल शाहीन (Suhail Shahin) ने कहा, चरमपंथी संगठन अफगानिस्तान में ‘खुली, समावेशी इस्लामी सरकार’ बनाने के मकसद से वार्ता कर रहा है. शाहीन ने तालिबान के कुछ ही दिनों में देश के अधिकांश हिस्से पर कब्जा कर लेने और राजधानी काबुल में घुस जाने के बाद यह बात कही है. इससे पहले, तालिबान के एक अधिकारी ने कहा था कि संगठन राष्ट्रपति भवन से एक नयी सरकार की घोषणा करेगा लेकिन वह योजना फिलहाल टलती दिख रही है. वहीं, अल-जजीरा समाचार चैनल ने जो तस्वीरें प्रसारित कीं उनमें तालिबान लड़ाकों का एक समूह राष्ट्रपति भवन के अंदर नजर आ रहा है.

This post has already been read 2644 times!

Related posts