World Ozone Day 2021: विश्व ओजोन दिवस पर जाने आखिर क्यों ओजोन हमारे लिए इतना महत्वपूर्ण है

National : हर साल 16 सितंबर को विश्व ओजोन दिवस मनाया जाता है। इस दिन लोगों को ओजोन परत के बारे में जागरूक भी किया जाता है। ओजोन परत की रक्षा के लिए पिछले दो दशक से वैज्ञानिकों के द्वारा हर संभव उपाय किए जा रहे हैं। ऐसे में 16 सितंबर 2021 को एक बार फिर ओजोन परत को बचाने के लिए जागरूकता अभियान के साथ वैज्ञानिक नए रास्ते और नुकसान के बारे में बताएंगे। इस दिन को मनाने के पीछे का उद्देश्य ओजोन लेयर की रक्षा करने का होता है।

और पढ़ें : Realme C25Y : भारत में लॉन्च, 50 मेगापिक्सल कैमरे के साथ कई और फीचर्स, कीमत ₹10999


विश्व ओजोन दिवस 2021 की थीम :

इस साल की थीम है, “मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल – हमें, हमारे भोजन और टीकों को ठंडा रखना” है। इस वर्ष के विश्व ओजोन दिवस पर प्रकाश डाला गया है! मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल बहुत कुछ करता है – जैसे कि जलवायु परिवर्तन को धीमा करना और ठंडे क्षेत्र में ऊर्जा दक्षता को बढ़ावा देने में मदद करना, जो खाद्य सुरक्षा में योगदान देता है। 197 देशों के द्वारा इस साल के टीम को मंजूरी दी गई है ।

क्या है ओजोन परत?

ओजोन परत वो सुरक्षा कवच है। जो सूर्य से निकलने वाली हानिकारक अल्ट्रावाइलट किरणों से पृथ्वी को बचाती है। अगर ये परत ना हो तो, पृथ्वी पर रहने वाले लोगों को कई तरह की त्वचा संबंधी बीमारियों का सामना करना पड़ेगा। इसीलिए वैज्ञानिक इस लेयर को होने वाले नुकसान को लेकर चिंतिंत हैं। ऐसा कहा जा सकता है कि इस परत के बिना पृथ्वी पर जीवन मुमकिन नहीं होता।

पहला ओजोन दिवस कब मनाया गया और क्यों :

वैज्ञानिकों ने साल 1970 के अंत में ओजोन परत में छेद होने का दावा किया था। इसके बाद 80 के दशक में दुनियाभर की कई सरकारों ने इस समस्या को लेकर चिंतन करना शुरू कर दिया। साल 1985 में ओजोन लेयर की रक्षा के लिए वियना कन्वेंशन को अपनाया। इसके बाद 19 दिसंबर 1994 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 16 दिसंबर की तारीख को अंतरराष्ट्रीय ओजोन दिवस मनाने का फैसला किया। एनएफ.साल 1995 में पहला विश्व ओजोन दिवस मनाया गया।

इसे भी देखें : ये वीडियो पंजाब के गांव की है, बच्चा इंजेक्शन लेने से घबरा रहा है और अजीब रिएक्शन दे रहा है

ओजोन परत को नुकसान कैसे पहुंचता है :

ओजोन परत को नुकसान पहुंचाने के प्राकृतिक कारकों में सौर क्रिया, नाइट्रस ऑक्साइड, प्राकृतिक क्लोरीन, वायुमंडलीय संरचरण, पृथ्वी के रचनात्मक प्लेट किनारों से निकलने वाली गैस तथा केन्द्रीय ज्वालामुखी उद्गार से निकलने वाली गैसें प्रमुख हैं। आसान भाषा में कहें तो हम जो एसी और फ्रीज का इस्तेमाल अपने घरों में करते हैं, उनसे निकलने वाली गैस ओजोन परत को नुकसान पहुंचाती है। हालांकि पिछले काफी समय से अब उस गैस का इस्तेमाल कम किया जाने लगा है, जिससे ओजोन परत को नुकसान पहुंचता है !


कैसे करें ओजोन परत का बचाव :

ओजोन परत के क्षरण को रोकने के लिए कार्बन उत्सर्जन में कमी लाना पड़ेगा। आप वैसे सभी कार्यो से तौबा कर ले जिससे कि पर्यावरण प्रदूषित होने का खतरा हैं।
आप ब्रह्मांड के सबसे बुद्धिमान प्राणी हैं। आपसे हम यही उम्मीद करेंगे कि आप अपने आसपास साफ-सफाई रखें। जो गंदगी फैलाते है उनको प्यार से समझायें। अगर फिर भी न मानें तो उनका सामाजिक बहिष्कार करें। आज “विश्व ओज़ोन दिवस” पर आप सभी शपथ लें कि, आप साल में काम से कम एक वृक्ष जरूर लगाएंगे।

This post has already been read 11166 times!

Sharing this

Related posts