युवाओं में नशे की आदत को रोकने के लिए पुलिस ने कसी कमर

रांची। राजधानी रांची में में नशे की आदत को रोकने के लिए पुलिस प्रशासन ने कमर कस ली है। रांची में स्कूल-कॉलेजों के परिसर के बाहर और सड़क किनारे नशे का कारोबार करने वालों के खिलाफ पुलिस विशेष नजर रख रही है। रांची पुलिस को मिले इनपुट और अनुसंधान में हुए खुलासे ने पुलिस को नई रणनीति पर विचार करने को मजबूर कर दिया है। पुलिस को खुलासे और जांच के दौरान स्कूल और कॉलेजों के पास गांजा और ब्राउन शुगर की सप्लाई की जानकारी मिली है। नशे के कारोबारी विद्यार्थियों को नशे का आदी बनाकर अपना धंंघा चला रहे हैं। इन विद्यार्थियों को नशा मुक्त करने के लिए रांची पुलिस स्कूल-कॉलेजों में जागरूकता अभियान भी चला रही है।
पुलिस की जांच में पता चला है कि रांची के विभिन्न थाना क्षेत्रों के 50 से अधिक की संख्या में लोग गांजा और ब्राउन शुगर के धंधे से जुड़े हैं। रांची पुलिस ने शहर के विभिन्न थाना क्षेत्रों में ब्राउन शुगर के सप्लायरों और गली-मुहल्ले में बेचने वालों की सूची तैयार कर ली है और पुलिस इन कारोबारियों को जल्द गिरफ्तार करेगी।पुलिसिया जांच में खुलासा हुआ है कि कोतवाली, चुटिया, लोअर बाजार, हिंदपीढ़ी, सुखदेवनगर और डोरंडा थाना क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर गांजा और ब्राउन शुगर का अवैध धंधा चल रहा है। यहां से शहर के अलग- अलग इलाकों में भी गांजा और ब्राउन शुगर सप्लाई की जा रही है। इन थाना क्षेत्रों में 20 से अधिक लोगों के खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज की गई है।
रांची में 5 से 10 रुपये में गांजा भरा सिगरेट बेचा जा रहा है। 200 से 500 रुपए का छोटा पुड़िया ब्राउन शुगर का बिक रहा है। इस पर लगाम लगाने के लिए पुलिस के जवान सादे लिबास में अलग अलग चौक चौराहों पर तैनात किए गए है।
एसएसपी अनीश गुप्ता ने गुरुवार को बताया कि पुलिस की जांच में इसका भी खुलासा हुआ है कि गांजा और ब्राउन शुगर का इस्तेमाल ज्यादातर 15 से 21 साल से युवा कर रहे हैं, जो नशे की वजह से अपराध के दलदल में फंस जाते हैं। एसएसपी ने सभी थानेदारों को आदेश दिया है कि जिन कारोबारियों की सूची तैयारी की गई है, उनकी गतिविधियों पर पैनी नजर रखी जाए। साथ ही कारोबार के रोकथाम के लिए सादे लिबास में पुलिसकर्मियों को अलग-अलग चौक चौराहों पर तैनात किया गया है।

This post has already been read 7425 times!

Sharing this

Related posts