Chandra Grahan 2021 : इस वर्ष का आखिरी चंद्रग्रहण का जनमानस पर कैसा होगा प्रभाव

Chandra Grahan 2021 : चंद्र ग्रहण ज्योतिष के लिहाज से बेहद महत्वपूर्ण माना जाता है.नवंबर के महीने में आने वाले कुछ दिन ज्योतिष शास्त्र और धार्मिक नजरिए से बहुत ही अहम रहने वाला रहेगा। एक तरफ जहां इस महीने सबसे बड़े और सबसे ज्यादा शुभ फल देने वाले ग्रह बृहस्पति अपनी राशि बदलेंगे, तो दूसरी तरफ साल का आखिर चंद्रग्रहण भी लगेगा। ग्रहण के दौरान और सूतक काल लगने पर कई कार्यों को करना वर्जित हो जाता है। 19 नवंबर को साल का आखिरी चंद्रग्रहण लगने जा रहा है। इस चंद्र ग्रहण को सदी का सबसे बड़ा चंद्र ग्रहण बताया जा रहा है.

Bollywood : जाने किस वजह से सोशल मीडिया पर ट्रोल हुई कंगना रनौत

इस राशि और नक्षत्र में लगेगा चंद्रग्रहण
ज्योतिष शास्त्र में ग्रहण एक बहुत ही महत्वपूर्ण घटना मानी जाती है। साल का यह आखिरी चंद्रग्रहण 19 नवंबर को वृषभ राशि और कृतिका नक्षत्र में लगेगा।

Jharkhand : मुख्यमंत्री का समितियों के गठन को लेकर, झारखंड मंत्रालय में उच्चस्तरीय बैठक

क्या रहेगा सूतक काल का समय
ज्योतिष और धार्मिक नजरिए से जब ग्रहण मात्र एक उपच्छाया ग्रहण होता है तब सूतक काल प्रभावी नहीं होता है। भारत में यह ग्रहण एक उपच्छाया चंद्र ग्रहण होगा। जिस कारण से इसका सूतक काल मान्य नहीं होगा। इस ग्रहण को भारत में न देखे जाने के कारण इसका कोई भी असर जनमानस के ऊपर नहीं पड़ेगा।

चंद्र ग्रहण का राशियों पर प्रभाव
ज्योतिष गणना के अनुसार तुला, कुंभ और मीन राशि वालों के लिए यह चंद्र ग्रहण सामान्य परिणाम लेकर आने वाला होगा। करियर में अच्छे मौके मिलेंगे। सफलता मिलने की संभावना अब से ज्यादा बढ़ जाएगी। नौकरी और बिजनेस में अच्छे परिणाम मिलेंगे। बाधाएं कम आएंगे। धन लाभ के संकेत हैं। वहीं दूसरी तरफ ग्रहण के कारण मेष, वृषभ, सिंह और वृश्चिक राशि वालों को कुछ छोटी-मोटी परेशानियां आ सकती हैं।

Ranchi :नाट्योत्सव का आयोजन राज्य सग्रहालय, होटवार

चंद्र ग्रहण का समय और कहां-कहां दिखाई देगा
भारतीय समय के अनुसार ग्रहण की शुरुआत सुबह 11 बजकर 34 मिनट से होगी, जिसकी समापन शाम के 05 बजकर 33 मिनट पर होगा। ऐसे में यह ग्रहण काफी लंबे समय तक रहेगा। ग्रहणकाल की कुल अवधि लगभग 05 घंटे 59 मिनट तक होगी। साल का यह आखिरी चंद्रग्रहण यरोप, अमेरिका, पश्चिमी अफ्रीका, इंडोनेशिया, रूस, चीन, ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन में साफ दिखाई देगा। अगर भारत की बात की जाय तो यह ग्रहण शाम के समय अरुणाचल प्रदेश के कुछ हिस्सों में दिखाई देगा।

This post has already been read 9497 times!

Related posts