हंगामें के कारण दोनों सदनों की बैठक दिन भर के लिए स्थगित

नई दिल्ली ।  संसद के दोनों सदनों में सोमवार को पश्चिम बंगाल में सीबीआई और पुलिस के बीच टकराव और   राजनीतिक घटनाक्रम का मुद्दा छाया रहा। इसके चलते दोनों सदनों में हंगामें के कारण कोई कामकाज नहीं हो सका और कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित करनी पड़ी।  दोनों सदनों में तृणमूल कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के सदस्यों ने सरकार पर केन्द्रीय जांच ब्यूरो(सीबीआई) के दुरुपयोग का आरोप लगाया। राज्यसभा में हंगामे के चलते सदन की कार्यवाही पहले दो बजे और फिर दिनभर के लिए स्थगित कर दी गई। इसी मुद्दे पर लोकसभा में दो बार कार्यवाही स्थगित हुई  । दो बजे सदन की कार्यवाही शुरू होने के बाद   संसदीय कार्यमंत्री   नरेन्द्र सिंह तोमर ने राष्ट्रपति के भाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा कराए जाने का लोकसभा अध्यक्ष से आग्रह किया    । किंतु, तृणमूल कांग्रेस, सपा और राजद सदस्यों के हंगामे के चलते अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही को दिनभर के लिए स्थगित कर दिया।
राज्यसभा में दो बजे कार्यवाही जैसे ही शुरू हुई सदन में तृणमूल कांग्रेस के नेता डेरेक ओ ब्रायन ने कहा कि उन्होंने सीबीआई के मुद्दे पर नियम-267 के तहत चर्चा कराने के लिए नोटिस दिया है। वेंकैया नायडू ने कहा कि वह पहले शून्यकाल में चर्चा का अवसर दे चुके  हैं तब आपकी पार्टी के सदस्य सदन में उपस्थित नहीं थे  ।  इसी बीच तृणमूल कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के सदस्य आसन के निकट आकर नारे लगाने लगे।
सदस्यों के शांत नहीं होने पर नायडू ने कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित कर दी। इससे पहले भी सीबीआई के मुद्दे पर ही सदन की कार्यवाही सुबह दो बजे तक स्थगित कर दी गई थी। यह संसद के बजट सत्र का तीसरा दिन है और अभी तक बजट के अलावा दोनों सदनों में कोई खास कामकाज नहीं हुआ है।

This post has already been read 6570 times!

Sharing this

Related posts