फानी के कारण तटीय ओडिशा में भारी नुकसान

भुवनेश्वर। बंगाल की खाड़ी में बना समुद्री तूफान फानी के पुरी शहर व उसके आसपास लैंड फाल करने के बाद पुरी जिले के साथ साथ गंजाम, खोर्धा, जगतसिंहपुर, कटक व केन्द्रापडा जिले के अनेक स्थानों पर कहर बरपा है। इसके प्रभाव में इन जिलों के विभिन्न स्थानों पर सैकडों की संख्या में पेड़ गिरने के साथ-साथ अनेक बिजली के खंबे गिर गये हैं। इसके अलावा अनेक स्थानों पर दीवार गिरने के समाचार हैं। मौसम विभाग के कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार पुरी में लैंड फाल करने के बाद पुरी में 175 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं बह रही थी। इससे पुरी शहर में काफी नुकसान हुआ है। शहर में अनेक पेड़ गिर गये हैं और कुछ मकानों को भी नुकसान हुआ है। इसके अलावा पुरी-कोणार्क मेराइन ड्राइव में भी सैंकडों पेड़ गिर गये हैं। पुरी में समुद्र अशांत दिख रहा है। राज्य की राजधानी भुवनेश्वर में भी तेज हवा के कारण काफी नुकसान हुआ है। भुवनेश्वर में भी सौ किमी से 140 किमी के बीच प्रति घंटे की रफ़्तार से हवा चलने के कारण शहर के विभिन्न इलाकों में पेड़ गिर गये हैं। इस कारण यातायात में दिक्कतें आ रही हैं। एनडीआरएफ व अग्निशमन विभाग के कर्मचारी इन पेड़ों को काट कर सड़क साफ कर रहे हैं । कुछ स्थानों पर इलेक्ट्रिक पोल भी गिर गये हें। राजधानी भुवनेश्वर में अनेक झुग्गियों के छत उड़ गये। गंजाम जिले के गोपालपुर समेत अन्य विभिन्न स्थानों पर भी तूफान का असर देखने को मिला है । जगह-जगह पर पेड़ गिरे हैं। खोर्धा जिले के टागीं, बाणपुर, जटनी, बालुगाँ आदि इलाकों में भी तबाही हुई है। इन इलाकों में भी पेड़ गिरने के साथ साथ इलेक्ट्रिक पोलों को नुकसान हुआ है। इसी तरह नयागढ, कटक, जगतसिंहपुर व केन्द्िले के विभिन्न स्थानों में यही स्थिति है।

This post has already been read 17550 times!

Sharing this

Related posts