दिल्ली: जाकिरनगर की चार मंजिला इमारत में भीषण आग, 6 की मौत 15 घायल

नई दिल्ली। जामिया नगर स्थित जाकिर नगर में सोमवार देर रात चार मंजिला इमारत में भीषण आग लग गई। हादसे में तीन मासूमों समेत छह लोगों की मौत हो गई, जबकि 15 से अधिक लोग घायल हैं। करीब 50 लोगों को बिल्डिंग से सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया, लेकिन इस बीच नुकसान बहुत हुआ है। सात कारों के अलावा 19 बाइक भी आग से खाक हो गई। सभी घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मंगलवार की सुबह मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, नेता प्रतिपक्ष व भाजपा विधायक विजेंद्र गुप्ता घटना स्थल पर पहुंचे। दोपहर में उप राज्यपाल अनिल बैजल ने होली फैमिली अस्पताल पहुंचकर घायलों का हाल जाना। दिल्ली सरकार ने मृतकों के परिजनों को पांच-पांच लाख का मुआवजा और घायलों को दो-दो लाख रुपये की मदद देने का एलान किया है। उल्लेखनीय है कि आग लगने के समय इमारत में करीब 70 लोग मौजूद थे। इमारत की पार्किंग से लगी आग की लपटें और धुंआ ऊपर उठने लगीं तो कुछ लोगों ने डर के मारे तीसरी और चौथी मंजिल से नीचे छलांग लगा दी। स्थानीय लोगों ने उन्हें बचाने का प्रयास किया पर नाकाम रहे। सोमवार की देर रात करीब तीन घंटे तक रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया गया, जिसमें 50 लोगों को बिल्डिंग से बाहर निकालने में पुलिस, दमकल विभाग और अन्य बचाव दल कामयाब रहे। पुलिस के अनुसार हादसा जाकिर नगर की गली संख्या-7, मकान नंबर-आर-887ए में हुआ। यहां करीब 200 गज की इमारत में ग्राउंड फ्लोर पर पार्किंग बनी है। ऊपर बनी चार मंजिलों पर तीन-तीन फ्लैट (75 गज-75 गज-50 गज) बने हैं, 50 गज में एक फ्लैट छत पर बना है। पूरी इमारत में 13 फ्लैट में 60 से 70 लोग रहते थे। सोमवार की रात करीब 2.00 बजे अचानक पार्किंग में लगे मीटर में चिंगारी उठी और आग लग गई। बिजली के तारों से होती हुई आग बिल्डिंग के बाहर लगे बीएसईएस के खंभे तक पहुंच गई। इस बीच कुछ लोगों ने शोर मचाना शुरू किया तो कुछ लोगों ने रेत से आग बुझाने का प्रयास किया, लेकिन आग बढ़ती ही गई। रात करीब 2.26 बजे पुलिस और दमकल विभाग को सूचना दी गई। सूचना के बाद आठ पीसीआर, दमकल की सात गाडिय़ां, छह एंबुलेंस मौके पर पहुंची। तब तक आग पूरी पार्किंग में फैल गई। बिल्डिंग से चीखने-चिल्लाने की आवाजें आने लगीं। लोग बचाव-बचाव की गुहार लगा रहे थे। सामने वाले निजाम ने तुंरत सीढ़ी लगाकर पहली मंजिल के कुछ लोगों को बाहर निकाला। कुछ लोग इमारत के पीछे सीढ़ी, रस्सी, चादर लटकाकर उतर गए। सामने की ओर दूसरी, तीसरी और चौथी मंजिल के लोग बिल्डिंग में फंस गए। हादसे के बहुत देर बाद दमकल की गाडिय़ां मौके पर पहुंची। पड़ोसी निशात खान के मकान की दूसरी मंजिल पर चढ़कर आग वाली इमारत में तीसरी और चौथी मंजिल की दीवार में सुराग कर करीब 20  लोगों को वहां से निकाला गया। बाकी के 20 लोग पीछे के रास्ते बाहर निकाले गए। स्थानीय लोगों, पुलिस और दमकल कर्मियों ने करीब 50 लोगों को रेस्क्यू कराया। आग की लपटें बढ़ती रहीं। तीसरी मंजिल पर रहने वाले अथहर खान (36), उसकी पत्नी नगमा (32) और चौथी मंजिल पर रहने वाली उमर की पत्नी सोहा (22) ने डर केे मारे नीचे छलांग लगा दी। इन लोगों को नीचे गद्दा बिछाकर बचाने की कोशिश की गई, लेकिन अथहर को छोड़कर बाकी की मौत हो गई। मंगलवार की सुबह करीब पांच बजे दमकल विभाग ने एक अज्ञात पुरुष का शव तीसरी मंजिल की सीढिय़ों से बरामद किया। हादसे में अथहर की दो लड़कियों को बेहोशी की हालत में तीसरी मंजिल से निकाला गया। तीसरी मंजिल पर ही रहने वाले मुईनुद्दीन रब्बानी के बेटे अदियान (8) को निकालकर अस्पताल पहुंचाया गया, जहां इन्हें मृत घोषित कर दिया गया।
मृतकों में शामि हैं:
नगमा (32) पत्नी अथहर, जिकरा (8) पुत्री अथहर, आमना (7) पुत्री अथहर, अदियान (8) पुत्र मुईनुद्दीन रब्बानी, सोहा (22) पत्नी उमर और एक अज्ञात व्यक्ति।
घायलों का चल रहा इलाज
अथहर (36), साइमा, शरीक (30), फैज (20), उमर (28), अदीबा (15), शबाना (38), सब्बा (45) के अलावा दमकर्मी राम निवास, दिलबाग, ताराचंद, रमेश व तीन अन्य काे अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

दिल्ली सरकार ने दिए जांच के आदेश

शुरूआती जांच में आशंका है कि आग शार्ट सर्किट से लगी है। फिलहाल, थाना जामिया नगर पुलिस मामले दर्ज कर जांच-पड़ताल कर रही है। इसके अलावा दिल्ली सरकार ने हादसे की जांच के आदेश दिए हैं।

This post has already been read 2699 times!

Sharing this

Related posts