ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करता है करेला

करेले का नाम आते ही लोगों को कड़वा स्वाद याद आ जाता है लेकिन करेला हमारी सेहत के लिए बहुत लाभदायक है। करेले को हम कई तरह से दवा के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं। करेले में कई ऐसे गुण पाए जाते हैं, जिनसे कई बीमारियों की आशंकाओं को कम किया जा सकता है। बता दें कि ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने में करेला बहुत मदद करता है। करेले में मोमर्सिडीन और चैराटिन जैसे एंटी-हाइपर ग्लेसेमिक तत्व पाए जाते हैं। आपको बताते हैं कि कैसे करेला ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करता है।

ऐसे करता है काम

करेले में पाए जाने वाले मोमर्सिडीन और चैराटिन नामक तत्व ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल करने में मदद करता है। इसके अलावा करेले में एन्टी-ऑक्सिडेंट्स भरपूर मात्रा में होते हैं जो डायबीटीज से लड़ने में सहायता करते हैं। करेले के बीज में पॉलीपेपटाइड-पी नाम का प्लांट इंसुलिन होता है। यह इंसुलिन ठीक उसी तरह काम करता है जैसे अग्नाशय से निकलने वाला इंसुलिन ब्लड शुगर लेवल को कम करता है। करेले का जूस खाली पेट पीना चाहिए। यह ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने में बहुत असरकारक है। करेले का कड़वापन कम करने के लिए करेले को टुकड़ों में काटकर हल्दी और नमक के पानी में पंद्रह मिनट तक भिगोएं। इसके बाद इन टुकड़ों में नींबू रस डालकर पीस लें। फिर इसको छानकर सुबह खाली पेट पीएं। आप चाहें तो स्वाद बदलने के लिए आंवले का रस करेले के रस में मिला सकते हैं।

इनमें फायदा करता है करेला

1- कैंसर

2- पथरी

3- त्वचा रोग

4- उल्‍दी, दस्‍त

5- गैस की समस्‍या

6- पीलिया

7- गठिया 8- मुंह के छाले

Sharing this

Related posts