किसानों,युवाओं, महिलाओं और गरीबों के सपनों को साकार करेगा बजटः अमित शाह

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा लोकसभा में पेश बजट की सराहना करते हुए कि ये नये भारत का बजट है, जो कि समावेशी और प्रगतिशील देश की नींव रखता है। यह बजट किसानों, युवाओं, महिलाओं और गरीबों के सपनों को पूरा करने में मदद करेगा। शाह ने एक के बाद एक कई ट्वीट कर कहा कि पिछले पांच वर्षों में अर्थव्यवस्था, आवास, बुनियादी ढांचे और सामाजिक क्षेत्रों से संबंधित प्रमुख क्षेत्रों में अनुकरणीय कार्यों कार्य किए गए और इस आधार पर, नए बजट में इस आशा की भावना को प्रज्वलित किया गया है कि आने वाले वर्षों में भारत पांच ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बन सकता है। उन्होंने कहा कि वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा पेश बजट भविष्योन्मुखी है। यह उन क्षेत्रों के लिए एक सुसंगत रोडमैप प्रदान करता है जो हमारे नागरिकों के बीच विकास और नवाचार को बढ़ावा देंगे। इस बजट भाषण में स्वच्छ ऊर्जा और कैशलेस लेनदेन पर जोर देना भी सही दिशा में उठाया गया कदम है। शाह ने बजट में प्रत्येक नागरिक के लिए स्वच्छ पानी मुहैया, देश भर में बिजली कनेक्टिविटी सुनिश्चित करने और विशेष रूप से नए क्षेत्रों में विनिर्माण को बढ़ावा देने के लिए मंच निर्धारित करता है। यह बजट भारत को अधिक जीवंत स्टार्ट-अप हब बनने में सक्षम करेगा। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि यह भारत के विकास के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दृष्टिकोण को स्पष्ट रूप से दर्शाता है, जहां किसान समृद्ध हों, गरीब को सम्मान से जीने का अधिकार हो, मध्यम वर्ग को उनकी मेहनत का उचित परिणाम मिले और भारतीय उद्यम को बढ़ावा मिलता है। यह वास्तव में आशा और सशक्तिकरण का बजट है। भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि यह बजट देश के गरीब लोगों को, दलितों को, किसानों को, देश के युवाओं और महिलाओं को समर्पित है। यह समाज के सभी वर्गों का प्रतिनिधित्व करता है। पूर्व वित्तमंत्री अरुण जेटली ने वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण को बधाई देते हुए बजट को एक ऐसे नीतिविषयक दस्तावेज बताया, जिससे आर्थिक वृद्धि तेज होगी तथा अर्थव्यवस्था के सभी क्षेत्रों के हितों का संवर्द्धन होगा। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि यह बजट नए भारत की आधारशिला साबित होगा। बजट में ग्रामीण और शहरी विकास, आधारभूत ढ़ांचा और स्टार्टअप तथा शिक्षा और उद्योग सभी क्षेत्रों का ध्यान रखा गया है। उन्होंने कहा कि यह बजट 125 करोड़ भारतीयों की आशाओं, अपेक्षाओं के अनुरुप है। भारत इसी वर्ष 30 खरब (तीन ट्रिलियन डॉलर) की अर्थव्यवस्था बन जाएगा जिसमें सूक्ष्म, लघु और मझौंले उद्योगों का योगदान आधा होगा। गडकरी ने कहा कि इलेक्ट्रिक वाहनों और संबंधित आधारभूत ढ़ांचे को प्रोत्साहन से अर्थव्यवस्था और आवागमन क्षेत्र का रूपांतरण होगा। इससे प्रदूषण नियंत्रण की समस्या पर भी रोेक लगेगी।

This post has already been read 7132 times!

Sharing this

Related posts