मुआवजे की मांग को लेकर ग्रामीणों ने शवों को पोस्टमार्टम में भेजने से रोका

खूंटी। तोरपा थाना क्षेत्र के तोरपा-कर्रा मुख्य पथ पर रायटोली गांव के पास गत मंगलवार की रात हुई हाइवा ट्रक और बाराती वाहन में भिड़ंत से तीन लोगों की हुई मौत से उत्तेजित बारकुली गांव के ग्रामीणों ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजने से रोक दिया। गांव के सैकड़ों महिला-पुरुष बुधवार सुबह तोरपा थाना पहुंचे और कहा कि प्रशासन पहले मृतकों के आश्रितों को मुआवजा और दाह संस्कार के लिए समुचित राशि दे, उसके बाद ही शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजने दिया जाएगा।

इसे भी देखें : क्या आप कभी गए हैं रंगरौली धाम! यहां होती है मुर्गे की बलि

मामले की जानकारी मिलते ही तोरपा के विधायक कोचे मुंडा, जिला सांसद प्रतिनिधि मनोज कुमार, रेलवे विभाग के सांसद प्रतिनिधि संतोष जायसवाल, प्रखंड प्रतिनिधि भागीरथ राय सहित काफी संख्या में नागरिक थाना पहुंचे और ग्रामीणों की मांग को सही ठहराया। बाद में अंचलाधिकारी सच्चिदानंद वर्मा और प्रखंड विकास पदाधिकारी दयानंद कारजी को भी विधायक ने थाने पर बुलाया और कहा कि ये गरीब ग्रामीण शवों का दाह संस्कार कैसे करेंगे। उनके पास दाह संस्कार के भी पैसे नहीं हैं।

और पढ़ें : 4जी डाउनलोड स्पीड में जियो टॉप पर : ट्राई

बाद में अंचलाधिकारी ने मृतकों के परिजनों को दस-दस हजार की तत्काल सहायता राशि देने का आश्वासन दिया। तब ग्रामीण शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजने पर सहमत हुए। उल्लेखनीय है कि मंगलवार की रात लगभग पौने आठ बजे बारकुली गांव से सुबोध कांशी की बारात निकली थी। गांव से निकलने के पांच मिनट बाद ही तेज गति से आ रहे बालू लदे हाइवा ट्रक ने बारात गाड़ी(क्रूजर) को जोरदार टक्कर मार दी। इससे तीन लोगों फागु नाग, चतुर कांशी और भगिंदर प्रधान की घटनास्थल पर ही मौत हो गयी थी, जबकि 11 बाराती गंभीर रूप से घायल हो गये थे। इनमें दो का रांची रिम्स में और नौ का इलाज तोरपा रेफरल अस्पताल में चल रहा है।

विधायक ने अधिकारियों को लगायी फटकार
तोरपा थाने में बैठे विधायक कोचे मुंडा ने मामले को लेकर उपायुक्त शशि रंजन और अनुमंडल पदाधिकारी सैयद रियाज अहमद से फोन पर बात की और चेतावनी दी कि मृतकों और घायलों के परिजनों को तत्काल सहायता राशि नहीं मिली, तो ग्रामीण सड़क जाम करेगे। विधायक ने जिला खनन पदाधिकारी और तोरपा अंचलाधिकारी और संबंधित अधिकारियों को जमकर फटकार लगायी और बालू तस्करी पर अविलंब रोक लगाने को कहा।

बालू तस्करी के खिलाफ सड़कों पर उतरेंगे ग्रामीण
ग्रामीणों ने प्रशासन को चेतावनी दी कि यदि प्रशासन बालू माफिया और रेत की तस्करी पर रोक नहीं लगाता है, तो ग्रामीण सड़कों पर उतरेंगे और बालू तस्करों के खिलाफ सीधी कार्रवाई करेंगे। ग्रामीणों ने कहा के बालू की बेरोकटोक ढुलाई का असर इस क्षेत्र की सड़कों पर पड़ रहा है। सड़कें बहुत जल्दी टूटकर बर्बाद हो गयी। उसका खामियाजा नागरिकों को भुगतना पड़ता है।

राजकीय संरक्षण में हो रही बालू तस्करी के खिलाफ कार्रवाई होगी क्या : बाबूलाल मरांडी
भाजपा के वरिष्ठ नेता बाबूलाल मरांडी ने मंगलवार की रात सड़क हादसे में तीन लोगों की मौत पर गहरी संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि राज्य सरकार से पूछा कि क्या राजकीय संरक्षण में हो रही बालू तस्करी के खिलाफ सरकार कोई कार्रवाई करेगी? इधर, जनजातीय मामलों के केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने भी तीन लोगों की मौत पर दुख जताते हुए कहा कि दुख की घड़ी में वे परिजनों के साथ हैं। उन्होंने रिम्स के अधिकारियों से बातचीत कर वहां इलाजरत मरीजों को बेहतर चिकित्सा सुविधा देने का निर्देश दिया।

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और खबरें देखने के लिए यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। www.avnpost.com पर विस्तार से पढ़ें शिक्षा, राजनीति, धर्म और अन्य ताजा तरीन खबरें…

This post has already been read 20763 times!

Sharing this

Related posts