गुजरात में आंधी-बारिश और ओलावृष्टि से बड़ी तबाही, 9 लोगों की मौत

अहमदाबाद। अरब सागर और बंगाल की खाड़ी से आई नम हवाओं के बीच टकराव के कारण मंगलवार देर रात आई आंधी-तूफान, बारिश और ओलावृष्टि ने भारी तबाही मचाई है। नौ लोगों की मौत हो गई, जबकि कई लोग घायल हेैं। कई जगह तो बॉल से भी ज्यादा बड़े-बड़े ओले गिरे हैं। गेंहू की खड़ी फसल नष्ट हो गई है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बेमौसम आए आंधी-तूफान में जान गंवानेवाले लोगों के परिवार को मदद का भरोसा दिया है। उन्होंने कहा है कि पीएम राहत कोष से मृतकों को 2-2 लाख और गंभीर रूप से घायलों को 50-50 हजार रुपये मिलेंगे। मंगलवार की रात और बुधवार के तड़के आई आंधी-तूफान, हुई बारिश और ओला वृष्टि से उत्तर गुजरात के तमाम जिलों में भारी तबाही हुई है। बड़े-बड़े ओले गिरने से वाहनों के शीशे चकनाचूर हो गए, सीमेंट की चादरों से बनी छतों को खासा नुकसान पहुंचा है। कुल नौ लोगों की मौत हो गई, जबकि तमाम लोग बेघर और घायल हो गए हैं। किसानों के अनुसार तरबूज और शकरकंद की फसल को भी नुकसान पहुंचा है। बारिश के चलते शादी-ब्याह के मंडप धराशायी हो गए। किसानों को सबसे ज्यादा क्षति पहुंची है। कच्छ के सुइगाम में 20 मिनट में करीब सात मिलीमीटर बारिश होने के चलते जगह-जगह जलभराव हो गया है। प्रदेश का मौसम ठंडा हो गया है। मार्केट यार्ड में रखी अनाज की बोरियां बुरी तरह से भींग गई हैं, जिससे व्यापारियों को भारी नुकसान झेलना पड़ा है। मौसम विभाग का अनुमान है कि अभी एक-दो दिन मौसम ऐसे ही बना रहेगा। समुद्र में तेज़ हवा के चलते मछुआरों को बोट न ले जाने की सलाह दी गई है वहीं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुजरात के हिस्सों में भारी बारिश और तूफान में मारे गए लोगों के परिजनों को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से 2-2 लाख रुपये के मुआवजे की घोषणा की है। इसके अलावा घायलों को 50-50 हजार रुपये के मुआवजे का भी ऐलान किया गया है। मोदी ने ट्विटर पर लिखा है कि मृतकों के बारे में सुनकर दु:ख हुआ। बेमौसम बरसात और आंधी ने तबाही मचायी… मेरी संवेदना पीड़ित परिवार के साथ है।

This post has already been read 1754 times!

Sharing this

Related posts