मोदी बोले-हमें तो दिल जीतना है, दल तो अपने आप जीत जाएगा

  • प्रधानमंत्री मोदी के नामांकन में सहयोगी दलों ने दिखाई एकजुटता

वाराणसी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को वाराणसी लोकसभा सीट से दूसरी बार नामांकन दाखिल किया। उन्होंने अपना नामांकन पत्र जिला निर्वाचन अधिकारी सुरेन्द्र सिंह को सौंपा और पूरी नामांकन प्रक्रिया को मौन होकर बैठे देखते रहे। नामांकन के पूर्व भाजपा गठबंधन ने एकजुटता का परिचय देकर पूरे ठसक के साथ शक्ति प्रदर्शन किया। इस दौरान पीएम के साथ उनके प्रस्तावक डोमराजा परिवार के सदस्य जगदीश चौधरी, भाजपा कार्यकर्ता सुभाष गुप्ता, कृषि वैज्ञानिक राम शंकर पटेल, बीएचयू महिला महाविद्यालय की पूर्व प्राचार्या प्रो.अन्नपूर्णा शुक्ला मौजूद रही। प्रधानमंत्री ने बुजुर्ग प्रो. अन्नपूर्णा शुक्ला के पैर छुए तो उन्होंने पीएम के सिर पर हाथ रख कर विजयश्री का आशीर्वाद दिया। पीएम के नामांकन में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल, जेपी नड्डा, प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डा. महेन्द्रनाथ पांडेय, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, अकाली दल के प्रकाश सिंह बादल, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, लोजपा अध्यक्ष और केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान, केन्द्रीय मंत्री और अपना दल एस की अध्यक्ष अनुप्रिया पटेल, तमिलनाडु के मुख्यमंत्री सहित एनडीए के कई प्रमुख नेता मौजूद रहे।
पीएम के नामांकन में शामिल होने के लिए भाजपा के साथ गठबंधन (एनडीए) के नेता छावनी क्षेत्र स्थित होटल से एक साथ एक बस में सवार होकर कचहरी पहुंचे। होटल में सभी सहयोगी दलों के नेताओंं का भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने अंगवस्त्रम पहना कर गर्मजोशी से स्वागत किया। खास बात यह रही कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अकाली दल के बुजुर्ग नेता प्रकाश सिंह बादल का पैर छूकर आशीर्वाद लिया। प्रधानमंत्री ने सभी सहयोगी दलों के नेताओं के साथ थोड़ी देर बैठकर बातचीत की। कालभैरव मंदिर में दर्शन पूजन के बाद प्रधानमंत्री वाहनों के काफिले में सीधे कलेक्ट्रेट परिसर पहुंचे। पीएम कलेक्ट्रेट के गेट के निकट से पैदल चलकर लोगों का अभिवादन करते हुए नामांकन कक्ष तक गये।
हमें तो दिल जीतना है, दल तो अपने आप जीत जाएगा
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में नामांकन के पूर्व भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं को बूथ जीतने का गुरुमंत्र दिया। बूथ स्तरीय कार्यकर्ताओं का उत्साह वर्धन कर प्रधानमंत्री ने कहा कि काशी जीतने का काम कल ही पूरा हो चुका है, अब हमें पोलिंग बूथ जीतना है। मोदी हारे या जीते वो गंगा मैया देख लेगी लेकिन मेरे बूथ का कार्यकर्ता नहीं हारना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य पोलिंग बूथ जीतना होना चाहिए। कार्यकर्ताओं में दायित्व बोध भर पीएम मोदी ने कहा कि इस बार हमें मतदान के सभी रिकॉर्ड तोड़ देने हैं। उन्होंने कहा कि मैं गुजरात में चाहता था कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं को मतदान 5 फीसदी ज्यादा होना चाहिए, लेकिन वाराणसी में इस बार ऐसा ही होना चाहिए।
इस दौरान प्रधानमंत्री ने बनारस के कार्यकर्ताओं का आभार जताते हुए कहा कि सबसे पहले आप सबको बहुत बहुत बधाई। कल रोडशो के दौरान जो दृश्य मैं देख रहा था उसमें मुझे आपके परिश्रम और पसीने की महक आ रही थी। प्रधानमंत्री ने कार्यकर्ताओं के बीच आत्मीयता दिखाते हुए कहा कि मैं भी आपकी तरह दीवारों पर पार्टी का पोस्टर लगाया करता था। प्रधानमंत्री ने कार्यकर्ताओं को अनुशासन का पाठ पढ़ाकर कहा कि किसी भी दल के उम्मीदवार की आलोचना न करें। पहली बार मतदाता बने लोगों की सूची बनाकर उन्हें गुड़ खिलाकर मुंह मीठा कराएं। प्रधानमंत्री ने कार्यकर्ताओं से कहा कि एक-एक वोट बहुत महत्वपूर्ण होता है। कार्यकर्ता के नाते आपकी जिम्मेदारी बहुत है। उन्होंने कहा कि जनता 05 साल के अनुभव के आधार पर अनेक आशा, आकांक्षा लेकर हमसे जुड़ गई है। जनता ने पूरे देश के राजनीतिक चरित्र को बदल दिया है।
स्कूली बच्चों को देख रुकवाया काफिला
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जब बूथ स्तरीय कार्यकर्ताओं से संवाद के बाद कालभैरव मंदिर दर्शन करने के लिए निकल रहे थे तो उसी दौरान छावनी परिषद द्वारा संचालित बालिका विद्यालय के बच्चे पीएम को देखने के लिए खड़े थे। स्कूली बच्चों को देख पीएम ने अपना प्रोटोकाल तोड़ कर काफिला रुकवा दिया। उन्होंने बच्चों से बातचीत की बच्चे भी पीएम को देख गदगद होकर मोदी-मोदी करने लगे तो पीएम ने मुस्करा कर उनसे कविता सुनाने को कहा। बच्चों की प्रस्तुति पर पीएम तालियां बजा कर उनका उत्साह बढ़ाते रहे। इस दौरान अध्यापिकाएं भी मौजूद रहीं।
कालभैरव मंदिर में टेका मत्था
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वाराणसी में नामांकन के पूर्व बाबा कालभैरव के दरबार में हाजिरी लगाई। जिले में अपनी दूसरी सियासी पारी खेलने के लिए प्रधानमंत्री ने दरबार में विधि विधान से दर्शन पूजन के बाद राष्ट्र को सशक्त बनाने के लिए जीत का आशीर्वाद मांगा। इस दौरान मंदिर में और आसपास सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किये गए थे। पीएम को देखने के लिए सुबह से ही लोग मंदिर जाने वाले मार्ग पर जुट गये थे। इस दौरान वहां शहनाई की मंगलध्वनि भी गूंज रही थी। पीएम मोदी को देखते ही लोगों ने हर-हर महादेव और मोदी-मोदी के नारे लगाने लगे। प्रधानमंत्री ने भी नागरिकों के अभिवादन का जवाब मुस्कराते हुए हाथ जोड़ कर विनम्रता से किया।
अस्सीघाट पहुंचे, महिलाओं से मिले
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी वाराणसी प्रवास के दूसरे दिन शुक्रवार को सुबह-सुबह अस्सीघाट पहुंच गये। घाट पर मौजूद महिलाओं से मुलाकात के बाद मां गंगा को नमन कर अलकनंदा क्रूज से गंगा दर्शन किया। इस दौरान घाट पर मौजूद हजारों युवा मोदी-मोदी का नारा लगाते रहे।
पहली बार मीडिया से बातचीत की
प्रधानमंत्री ने वाराणसी में पहली बार मीडिया से भी बातचीत की। नामांकन के बाद कलेक्ट्रेट से बाहर निकले रहे प्रधानमंत्री को देख मीडिया कर्मियों ने आवाज दी तो पीएम रूक गये। प्रधानमंत्री ने रोड शो में जुटे काशी के नागरिकों और आने-जाने के दौरान लोगों के समर्थन प्यार दुलार पर आभार जताया। उन्होंने कहा कि 5 साल बाद फिर एक बार काशीवासियों ने मुझे आशीर्वाद दिया है। प्रधानमंत्री ने लोगों से मतदान में बढ़-चढ़ कर भागीदारी की अपील की।

This post has already been read 7055 times!

Sharing this

Related posts