इस्लाम और इंसानियत का दुश्मन है आतंकवाद: नकवी

नई दिल्ली। केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने शुक्रवार को कहा कि आतंकवाद, इस्लाम और इंसानियत दोनों का दुश्मन है और हमें विश्व की शांति, समृद्धि और विकास में इस बड़ी बाधा को मिलकर ख़त्म करना होगा। राजधानी दिल्ली के अंत्योदय भवन में ईरान की संसद के ‘कमेटी ऑन कल्चर’ के एक प्रतिनिधिमंडल से भेंट के दौरान नकवी ने कहा कि आतंकवाद आज किसी एक क्षेत्र या देश की समस्या नहीं रह गया है बल्कि आतंकवाद पूरी दुनिया के इंसानी मूल्यों के लिए चुनौती है। उन्होंने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ पूरी दुनिया को एकजुट होना होगा। पूरी दुनिया को एक साथ आतंकवाद और उसका समर्थन करने वाले लोगों को अलग-थलग करना होगा। नकवी ने कहा कि इस्लाम को ‘सुरक्षा कवच’ बना कर ‘आतंकवाद का तांडव’ करने वाले संगठन और लोग इस्लाम के सबसे बड़े दुश्मन हैं। उन्होंने कहा कि भारत पूरी दुनिया के लिए सामाजिक-सांस्कृतिक सौहार्द और एकता की मिसाल है। हमें हर हाल में सौहार्द और एकता की अपनी इस सामाजिक बुनियाद की सांझी विरासत को और मजबूत करना होगा। उन्होंने कहा कि भारत में समाज के सभी तबकों की तरह अल्पसंख्यक समुदाय के संवैधानिक-राजनैतिक-सामाजिक अधिकार भी पूरी तरह सुरक्षित हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भारत की सदियों पुरानी ‘अनेकता में एकता’ की संस्कृति और संस्कार, सामाजिक सद्भाव के ताने-बाने का मूलमंत्र है। ईरान की संसद के ‘कमेटी ऑन कल्चर’ के प्रतिनिधिमंडल में कमेटी के चेयरमैन अहमद मज़ानी, वाइस-चेयरमैन डॉ असग़र मसौदी, डॉ अली रजा इब्राहीमी, डॉ मोहम्मद इस्माइल सईदी, आमिर हुसैन एवं विदेश मंत्रालय, भारत सरकार एवं भारत में ईरान दूतावास के अन्य वरिष्ठ अधिकारी शामिल थे। नकवी ने कहा कि भारत-ईरान के सम्बन्ध हाल के दिनों में और मजबूत हुए हैं। प्रतिनिधिमंडल से भेंट में, भारत-ईरान के बीच संसदीय आदान-प्रदान को प्रोत्साहित करने, दोनों देशों के मध्य आपसी संपर्क-संवाद, व्यापार आदि मुद्दों पर चर्चा हुई। इसके अलावा वक्फ प्रबंधन, हज एवं जियारत से सम्बंधित विषयों पर भी चर्चा हुई। उन्होंने प्रतिनिधिमंडल के माध्यम से ईरान के लोगों को आगामी नौरोज़ त्यौहार की बधाई भी दी।

This post has already been read 715 times!

Sharing this

Related posts