हिमाचल में 19 व 20 को भारी बारिश-बर्फबारी का अलर्ट

शिमला ।  हिमाचल प्रदेश के अधिक ऊंचाई वाले क्षेत्रों में शनिवार को भी बर्फबारी का दौर जारी रहा। लाहौल-स्पीति, किन्नौर, कुल्लू और चंबा जिलों के ऊंचे क्षेत्रों में पिछले तीन दिन से बर्फबारी जारी है। इसके चलते पर्वतीय क्षेत्रों में आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। इस इलाके में 200 से अधिक सड़कों पर वाहनों की आवाजाही बंद है। मौसम विभाग ने एक बार फिर भारी बर्फबारी की चेतावनी जारी की है। प्रदेश में 19 व 20 फरवरी को भारी बारिश-बर्फबारी और ओलावृष्टि का अलर्ट जारी किया गया है।
मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक मनमोहन सिंह ने शनिवार को बताया कि पश्चिमी विक्षोभ के असर से 22 फरवरी तक प्रदेशभर में मौसम खराब रहेगा। राज्य के मैदानी व मध्यवर्ती क्षेत्रों में 19 व 20 फरवरी को भारी बारिश और ओलावृष्टि हो सकती है।
सिंह ने बताया कि बीते 24 घंटे में लाहौल-स्पीति के कोठी में सर्वाधिक 30 सेंटीमीटर बर्फबारी दर्ज की गई। डलहौजी में 24, केलंग में 9, खदराला में 8, कुफरी व कल्पा में 7, पूह में 4 और मनाली में 3 सेंटीमीटर बर्फबारी दर्ज की गई। इस दौरान जोगेंद्रनगर में 3.7 सेंटीमीटर, पांवटा साहिब व खेरी में 2.6, सुजानपुर टीहरा में 2.5, बलद्वारा, नादौन व पालमपुर में 2.3, बैजनाथ में 2.2, धर्मशाला एवं हमीरपुर में 2.1, नादौन एवं अघ्घर में 2.0, अर्की व गग्गल में 1.9 सेंटीमीटर बारिश दर्ज की गयी है।
लाहौल-स्पीति का मुख्यालय केलंग राज्य में सबसे ठंडा रहा, जहां न्यूनतम तापमान -12.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इसके अलावा किन्नौर के कल्पा में -5.6, मनाली में -1.8, कुफरी में -1.5, शिमला में 2.9, चंबा में 3.5, धर्मशाला में 3.6, मंडी में 3.8, भुंतर में 4, पालमपुर में 4.8, सोलन में 5, सुंदरनगर में 5.3, नाहन में 5.5, कांगड़ा में 6, हमीरपुर में 7.2 और बिलासपुर में 7.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

This post has already been read 7182 times!

Sharing this

Related posts