काम नहीं करने वाले अधिकारियों को सरकार वीआरएस दे देगी: रघुवर दास

चाईबासा। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि राज्य के सवा तीन करोड़ लोगों के वह सेवक हैं। गांव में जन चौपाल लगाकर मुख्यमंत्री ने गांववालों तक विकास की रौशनी पहुंचाने और उनकी अपेक्षाओं  और उम्मीदों को समझने का कार्य किया। दास शुक्रवार को चाईबासा के टोंटो प्रखंड के सिरिंगसिया पंचायत में आयोजित जन चौपाल में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रखण्ड के अधिकारी आप क्या कर रहें हैं। क्यों अब तक कुछ घर शौचालय से वंचित हैं? इस कार्य संस्कृति को बदलें। कौन हैं टोंटो प्रखण्ड के बीडीओ इधर आएं। उन्होंने कहा कि क्यों उठ रहे हैं सवाल, जिन्हें काम नहीं करना है उन्हें सरकार वीआरएस दे देगी। सिर्फ कुर्सी तोड़ने के लिए कार्यालय नहीं है। शासन नहीं सेवा करें।

डीडीसी आप मुझे इस मामले में पूरी रिपोर्ट दीजिये। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि काम नहीं करने वाले को सरकार वीआरएस दे देगी। टोंटो की रिवाली करवा ने मुख्यमंत्री को अपने गांव में कुछ घरों में शौचालय निर्माण नहीं होने की शिकायत दर्ज करा रही थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने पिछले दिनों चाईबासा का दौरा किया था। उन्हें लगा कि सभी ग्रामीणों को योजनाओं का लाभ पूरी तरह नहीं मिला है। इसी वजह है वह यहां आये है। लोगों को जगाने के लिए यह जन चौपाल आयोजित  किया गया है।

शहर में नहीं रहें अधिकारी, गांव;गांव जाएं

मुख्यमंत्री ने महिला की शिकायत पर कहा कि आंगनबाड़ी केंद्र का संचालन घर में क्यों किया जा रहा है। ऐसे में वहां भ्रष्टाचार हो रहा होगा। चाईबासा के अधिकारी और पदाधिकारी आप क्या आप सिर्फ चाईबासा में ही घूमते हैं। गांव की ओर नहीं जाते आप। सभी शहर में कम और गांव का दौरा अधिक करें। वहां की समस्याओं को जाने और उसे दूर करने का प्रयास होना चाहिए। सरकार आदिवासियों के विकास के साथ कोई समझौता नहीं कर सकती। आप सभी ग्रामीणों का हक है कि अधिकारी और पदाधिकारी को गांव के घर-घर तक बुलाएं।

जमीन लीज पर देने वालों को काम भी मिले

जन चौपाल के क्रम में एक महिला ने मुख्यमंत्री को बताया कि उनका क्षेत्र औधोगिक क्षेत्र में आता है। कंपनी जमीन लीज पर ले लेती है लेकिन काम नहीं देती। हमें कहती है अशिक्षित को कैसे काम देंगे। इसपर मुख्यमंत्री ने डीडीसी को निदेश दिया है कंपनी वालों के साथ बैठक कर जमीन देने वालों को रोजगार दें। उन्हें प्रशिक्षण देकर नौकरी करने योग्य बनाएं।

मुआवजा राशि सरकार हस्तांतरित करेगी

टोंटो के अशोक हांसदा ने मुख्यमंत्री से कहा कि सड़क चौड़ीकरण में उनकी जमीन गई, लेकिन अबतक मुआवजा नहीं मिला। हमने सभी कागजात जमा कर दिए हैं। इसपर मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार जल्द आप सभी को मुआवजा देगी। चाईबासा को उक्त राशि जल्द हस्तांतरित की जाएगी।

63 लाख की राशि से होगा पुल का निर्माण

सीलसिया गांव की एक महिला ने मुख्यमंत्री को बताया कि शहीद स्मारक का सुंदरीकरण हो रहा है। लेकिन मुख्य सड़क पर पुल निर्माण नहीं हुआ है, जिससे परेशानी हो रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आप सभी इस तरह विकास की भूख जगाएं। बहन जी आपके गांव में 63 लाख की लागत से पुल का निर्माण होगा। संविदा की प्रक्रिया आरम्भ हो चुकी है। इस अवसर पर प्रभारी जिला उपायुक्त-सह- उप विकास आयुक्त आदित्य रंजन, जिला परिषद अध्यक्षा लालमुनि पुरती, टीएसी सदस्य जे.बी तुबिद, बीस सूत्री उपाध्यक्ष संजू पांडे, पूर्व मंत्री बड़कुंवर गगरई, सदस्य बीस सूत्री गुरुदेव दास, पूर्व विधायक पुतकर हेम्ब्रम सहित जिले के तमाम पदाधिकारी व ग्रामीण उपस्थित थे।

This post has already been read 513 times!

Sharing this

Related posts