कहानी : झूठ मत समझना

-रतन लाल जाट- रचना तुम कैसी हो? तुम्हारी पढ़ाई कैसी चल रही है? और हाँ, कभी मैं आऊँगा तुमसे मिलने। यह बात कभी फोन पर हुई थी रमन की। रमन और रचना ने एक-दूजे को कभी देखा नहीं है। पर कोई यह नहीं कह सकता है कि वे आपस में अपरिचित हैं। दोनों के बीच कहने को दूरी है। वरना दोनों को एक-दूसरे के बारे में पल-पल की खबर है। अभी रचना कोचिंग से आ गयी होगी। कुछ देर बाद रूम पर आकर आराम करेगी और उसके बाद खाना बनायेगी।…

Read More

आईसीयू में देश (व्यंग्य)

-दिलीप कुमार सिंह- एक साहित्यकार राजधानी में था राजधानी सबको जाना ही पड़ता है। मीडिया में जो खबरें बहुत दिनों से आ रही थीं। उनके वास्तविक मायने जानने की उसे उत्सुकता थी। वो भी उनको जानना चाहता था जो ये दावा करते रहते हैं कि वो सब कुछ जानते हैं। किसी ने काफी हाउस बुलाया और कहा कि यहीँ बैठो फिर आगे सोच-विचार करते हैं कि क्या करना है सर्वज्ञों को जानने के लिए। साहित्यकार वहाँ पहुंचा तो बहुत से लिपे-पुते चेहरे वहाँ बनाव-श्रृंगार किये खिलखिला रहे थे। उन्होंने काफी…

Read More

करियर का चुनाव करते समय इन बातों पर दें ध्यान

किसी छात्र के करियर चुनने में कई बातें अहम होती हैं। उदाहरण के लिए उसे कौन-सा काम पसंद है, किस काम में वह अच्छा है, कमाई कितनी होगी, किस नौकरी में अवसर ज्यादा है, उसकी सामाजिक आकांक्षाएं क्या हैं, आदि। इसके अलावा, दोस्त क्या कर रहे हैं, यह भी करियर चुनते वक्त एक मनोवैज्ञानिक दबाव के रूप में कार्य करता है। परिवार वाले क्या चाहते हैं, यह भी एक महत्वपूर्ण कारक होता है। आज के युवा समाज में सकारात्मक योगदान दे पाने की संतुष्टि पाना चाहते हैं। साथ में सामाजिक…

Read More

बुरे दिनों से बचने के लिए आजमाएं इन लाभकारी उपायों को

यदि आप पर ग्रह नक्षत्रों की बुरी दशा चल रही है या आप कई महीनों से आप समस्याओं से घिरे हुए हैं, एक के बाद एक संकट आते रहते हैं तो यहां बताएं गए उपाय को अजमाएं। ये उपाय करने में किसी भी प्रकार की कोई बुराई नहीं है। 1. हनुमान चालीसा पढ़ना- सबसे पहले हनुमान चालीसा नियम से पढ़ना शुरू कर दें। पवित्र भावना और शांतिपूर्वक हनुमान चालीसा पढ़ने से हनुमान जी की कृपा प्राप्त होती है जो हमें हर तरह की जानी अनजानी अनहोनी से बचाती है। 2.…

Read More

कान बहने की समस्या को घरेलू उपचार से करें दूर

जब किसी व्यक्ति के कान से तरल पदार्थ निकलता है, तो उसे कान बहना या ओटेारिया कहा जाता है। वैसे तो यह समस्या छोटे शिशुओं व बच्चों में अधिक देखने को मिलती है, लेकिन किसी भी उम्र का व्यक्ति इससे प्रभावित हो सकता है। ज्यादातर कान से बहने वाला पदार्थ ईयरवैक्स होता है। यह एक तरल पदार्थ होता है जो शरीर में स्वाभाविक रूप से पैदा होता है। वहीं कई बार कान से ब्लड, पस या अन्य प्रकार का द्रव भी निकलता है। जो बताता है कि आपका ईयरडम चोटिल…

Read More

जानिए क्या है मधुमेह और कैसे करें इसकी पहचान

पिछले कुछ समय में भारत में मधुमेह के रोगियों की संख्या में काफी इजाफा हुआ है। पूरे विश्व के सबसे अधिक मधुमेह रोगी भारत में ही पाए जाते हैं। यहां तक कि आज के दौर में बच्चे से लेकर व्यस्क हर कोई इसकी चपेट में आ रहा है। आलम यह है कि भारत को विश्व की डायबिटीक कैपिटल के रूप में जाना जाता है। देखने में यह समस्या भले ही आम हो, लेकिन इसके कारण व्यक्ति को कई तरह की परेशानियां होती है। तो चलिए आज हम आपको बता रहे…

Read More

गुजरात के पावागढ़ में घूमने के साथ- साथ बरसो पुराने इन मंदिरों के भी करें दर्शन

गुजरात भी घूमने वाले के लिए काफी अच्छी जगह है। यहां कई सारी चीजें है एक्सप्लोर करने के लिए जैसे ऐतिहासिक इमारतें, धार्मिक स्थल, समुद्र, जंगल, शेर आदि। गुजरात में एक बहुत ही खूबसूरत जगह है पावागढ़, जो वडोदरा से करीब 46 किलोमीटर दूर है। यहां आस-पास के लोग ज्यादा घूमने आते हैं। स्थानीय लोगों के अलावा यहां बाहरी पर्यटकों का भी जमावड़ा लगता हैं, क्योंकि यह घूमने के लिए काफी अच्छी डेस्टिनेशन है। आइये जानते हैं क्या है पावागढ़ में खास- कालिका माता मंदिर पावागढ़ पहाड़ी के शिखर पर…

Read More

आंवले का करें ऐसे इस्तेमाल, स्किन की कई समस्याएं होंगी दूर

आंवला का इस्तेमाल घरों में कई सालों से किया जा रहा है। स्वास्थ्य से लेकर सौंदर्य तक में आंवला बेजोड़ है। इसमें मौजूद औषधीय गुणों के कारण यह कई तरह की स्किन समस्याओं को दूर करने का माद्दा रखता है। अगर आप भी अपनी स्किन समस्याओं को नेचुरली मात देना चाहती हैं तो आंवला की मदद से बनने वाले इन फेस पैक्स का सहारा लीजिए और फिर देखिए कमाल- अगर हो स्किन ब्लेमिश स्किन ब्लेमिश को दूर करने के लिए आंवला का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए आप…

Read More

(व्यंग्य) हमें खेद है

-मनोहर पुरी- कनछेदी के हाथ में न्यायालय की मोहर लगे सरकारी लिफाफे को देख कर मैं उसी प्रकार चौंक पड़ा था जैसे कोई मां अपने बच्चे के हाथ में पकड़े हुए सांप को देख कर चौंकती है। कनछेदी के बासी बैंगन जैसे लटके हुए मुहं ने मुझे और भी अधिक चिन्तित कर दिया था। सोचा न जाने कनछेदी किस पुलिसिया मुसीबत में फंस गया है। पुराने जमाने में जिस प्रकार गांव में किसी के घर तार आने पर मातम छा जाता था वैसी ही कुछ मुर्दनी कनछेदी के मुखमण्डल पर…

Read More

यात्रा वृतान्त : देह ही देश

किताब : देह ही देश -यात्रा वृतान्त लेखिका : गरिमा श्रीवास्तव प्रकाशक : राजपाल ऐंड सन्ज कीमत : 285 रु. ‘मैं गिनती ही भूल गई कि मेरा कितनी बार बलात्कार किया गया। होटेल के सारे कमरों में ताले लगे रहते, वह खिड़की के रास्ते हमें रोटी फेंकते जिसे हमें दांतों से पकड़ना पड़ता क्योंकि हमारे हाथ तो पीछे बंधे रहते थे। सिर्फ बलात्कार के वक्त ही हमारे हाथ खोले जाते…। हमारी देह को सिगरेट से जलाया जाता, चाकू से जीभ का टुकड़ा काट लिया जाता।’ यह लाइनें हैं लेखिका गरिमा…

Read More