व्यंग्य : डेंगू, चिड़िया, गाय और भावुकता

-निर्मल गुप्त- डेंगू क्या आया, बेचारी चिड़ियों और गली मोहल्लों में भटकने वाली गायों को पीने के लिए साफ पानी मिलना दूभर हो गया। सबको पता लग गया कि डेंगू वाला मच्छर साफ पानी में पनपता है। चिड़ियों के लिए घर की छत पर रखे जलपात्र और सार्वजनिक नांद रीती कर दी गईं। एक की वजह से दूसरे की जान सांसत में आ गई। अब देखिए न, बिल्ली छीके पर टंगी दूध मलाई की मटकी ढूंढ़ती घर में आई तो सारे चूहे बिल में जा छिपे, अलबत्ता वह मुंडेर पर…

Read More

कहानी: समय की तंगी

-सुनील सक्सेना- जगदीश के पिता के देहांत की सूचना उसे सुबह-सुबह रमाकांत के फोन से मिली। कुछ देर में वह जगदीश के घर पहुंच गया। लेकिन सुबह रमाकांत की बातों, फिर अपनी पत्नी के हाव-भाव और जगदीश के घर पर भी उसे पिता जी के देहांत के दुख से ज्यादा किसी और बात की चिंता की अनुभूति हो रही थी। कड़ाके की ठंड। सूरज नदारद। कोहरे का राज। रविवार का दिन हो, तो कोई अहमक ही होगा जो रजाई से निकलकर खूबसूरत सुबह को बरबाद करे। सुबह-सुबह जब मोबाइल की…

Read More

प्रकृति का अनछुआ सौंदर्य है पूर्वोत्तर भारत में….

प्रकृति का अछूता सौंदर्य और जनजातीय संस्कृति व सभ्यता की धरोहरें अगर आप मूल रूप में देखना चाहते हैं तो भारत के पूर्वोत्तर राज्यों की सैर पर निकलें। असम, मेघालय, मिजोरम, मणिपुर, नगालैंड, अरुणाचल, त्रिपुरा और सिक्किम कुल आठ राज्यों वाला यह क्षेत्र तरह-तरह के जीव-जंतुओं और पेड़-पौधों के अलावा लोक संस्कृति तथा कलाओं से भरपूर है। सौ से अधिक जनजातियां व उपजातियां इस क्षेत्र में हैं। पहले यहां पहुंचने के साधन नगण्य थे, पर अब हर प्रांत हवाई, सड़क और रेल मार्ग से जुड़ चुका है। इन सभी राज्यों…

Read More

सफलता का बड़ा सिद्धांत: आत्मनिर्भर बनो

सभी जानते हैं कि हाथी सिंह की अपेक्षा अधिक बलवान जीव है। उसका आकार बड़ा, भारी और बलवान है, परन्तु फिर भी एक अकेला सिंह हाथियों के झुंड को भगाने में समर्थ होता है। शेर की ताकत का रहस्य क्या है? केवल यह कि हाथी अपने शरीर पर भरोसा करता है, जबकि शेर अपनी शक्ति पर भरोसा करता है। हाथी बनाम शेर हाथी चालीस-पचास, सौ-सौ या कभी-कभी दो-दो सौ का झुण्ड बनाकर चलते हैं। जब कभी वे विश्राम करते हैं, तो हमेशा एक बलशाली हाथी को पहरेदार के रूप में…

Read More

महिलाएं जानें ऑस्टियोपोरोसिस से जुड़े खतरे

महिलाएं जानें ऑस्टियोपोरोसिस से जुड़े खतरेऑस्टियोपोरोसिस एक क्रॉनिक बोन डिसीज है, जिसे हड्डियों का घटता घनत्व और उनके ऊतकों के कम होने के रूप में समझा जा सकता है। पूरी दुनिया में इससे लाखों की संख्या में लोग पीड़ित हैं। इससे फ्रैक्चर का खतरा बढ़ जाता है और जीवन की गुणवत्ता पर असर पड़ता है। इसके प्रति जागरूक रहकर महिलाएं इसके खतरों से बची रह सकती हैं और अपनी हड्डियों को सुरक्षित रख सकती हैं। हींग:-भोजन में इसे डालने का उद्देश्य ही यही होता है क्योंकि इसमें पाचन का गुण…

Read More

एक्सरसाइज की सही रूप से प्लानिंग भी है जरुरी

हाइपोथायरॉयडिज्म या असक्रिय थायरॉयड के कारण थकान, जोड़ों में दर्द, धड़कनों का अनियमित हो जाना और डिप्रेशन जैसे लक्षण नजर आते हैं। इसकी वजह से पूरे मेटाबॉलिज्म पर प्रभाव पड़ता है और इससे वजन बढ़ने की आशंका और तेज हो जाती है। दवाओं के साथ एक्सरसाइज का भी सही डोज मिले तो हाइपोथायरॉयडिज्म से जुड़े लक्षणों को दूर करने में काफी हद तक मदद मिल सकती है। साथ ही साथ कार्डियोवेस्कुलर हेल्थ में भी सुधार होता है। धड़कनें होंगी नियमित:-यदि हाइपोथायरॉयडिज्म का इलाज ना कराया जाए तो थायरॉयड हॉर्मोन का…

Read More

लीग से हटकर करियर है वेलनेस टूरिज्मि में

स्वास्थ्य या कहें वेलनेस के लिए यात्रा करने की अवधारणा कोई नई नहीं है। ऐसा सदियों से होता आया है। मसलन, तन और मन का स्वास्थ्य सुधारने की खातिर हिमालय पर जाने का चलन। अधिकांश प्राचीन सभ्यताओं में स्वास्थ्य लाभ हेतु लोगों के किसी खास स्थान की यात्रा करने के प्रमाण मिलते हैं। आज यूं तो स्वास्थ्य संबंधी सेवाएं एक फोन कॉल पर उपलब्धथ हो जाती हैं लेकिन साथ ही वेलनेस टूरिज्म का चलन भी बढ़ रहा है। विभिन्न स्पा, योग सेंटर, आयुर्वेदिक केंद्र आदि देश-विदेश से लोगों को अपनी…

Read More

कन्याकुमारी की यात्रा तक के लिए उत्सुक रहते है लोग

भारत के मस्तक पर मुकुट के समान सजे हिमालय के धवल शिखरों को निकट से देखने के बाद हर सैलानी के मन में भारतभूमि के अंतिम छोर को देखने की इच्छा भी उभरने लगती है। शायद इसीलिए भी कश्मीर की यात्रा से दक्षिण में स्थित कन्याकुमारी की यात्रा तक के लिए लोग उत्सुक रहते। रेलवे टाइमटेबल में हिमसागर एक्सप्रेस जम्मू-तवी से कन्याकुमारी तक ले जाने वाली यह ट्रेन हमारे देश की सबसे लंबी दूरी की ट्रेन है। हिम प्रदेश से सागर पर्यत इस रेलगाड़ी में सफर करना एक गौरव का…

Read More

व्यंग्य : इस का इलाज कराओ भाइयो

रामजस एक बार संगीत सुनने गए थे. असल में जाने का उन का जरा भी मन नहीं था, लेकिन पड़ोसियों ने ऐसा दबाव डाला कि वे टाल नहीं सके. पड़ोसियों ने कहा, टिकट भी हम ले लेंगे मगर चलो. जिंदगी में एक बार तो संगीत सुन लो. कितना बड़ा कलाकार आया है अपने गांव में. बारबार नहीं मिलते ऐसे मौके.रामजस ने बहुत कहा कि मुझे कुछ लेनादेना नहीं है शास्त्रीय संगीत से. क्या शास्त्रीय और क्या संगीत. मैं मजे में हूं. घर और खेत में ही मेरा सारा दिन गुजर…

Read More

झूठा सच (कहानी)

-कुमुद भटनागर- जीवनलाल ने अपने दोस्त गिरीश और उस की पत्नी दीपा को उन की बेटी कंचन के लिए उपयुक्त वर तलाशने में मदद करने हेतु अपने सहायक पंकज से मिलवाया. दोनों को सुदर्शन और विनम्र पंकज अच्छा लगा. वह रेलवे वर्कशौप में सहायक इंजीनियर था. परिवार में सिवा मां के और कोई न था जो एक जानेमाने ट्यूटोरियल कालेज में पढ़ाती थीं. राजनीतिशास्त्र की प्रवक्ता कंचन की शादी के लिए पहली शर्त यही थी कि उसे नौकरी छोड़ने के लिए नहीं कहा जाएगा. स्वयं नौकरी करती सास को बहू…

Read More