‘आत्मनिर्भर भारत’ का लक्ष्य हासिल करने के लिए वायु सेना ने आईईटी मद्रास से किया करार

वायु सेना ने स्वदेशी समाधान खोजने से जुड़े प्रमुख फोकस क्षेत्रों को पहचाना
स्वदेशीकरण के चल रहे प्रयासों में महत्वपूर्ण योगदान देगा आईईटी मद्रास

नई दिल्ली। भारतीय वायु सेना ने आईईटी मद्रास के साथ विभिन्न विकास परियोजनाओं के लिए बुधवार को एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। इस संयुक्त साझेदारी का उद्देश्य ‘आत्मनिर्भर भारत’ का लक्ष्य हासिल करने के लिए वायु सेना के स्वदेशीकरण के प्रयासों में तेजी लाना है। भारतीय वायुसेना ने प्रौद्योगिकी विकास और विभिन्न हथियार प्रणालियों के निर्वाह के लिए स्वदेशी समाधान खोजने से जुड़े प्रमुख फोकस क्षेत्रों की पहचान की है।

इसे भी देखें : एक बार जरूर जाएं नकटा पहाड़…

आईईटी मद्रास के साथ हुए इस समझौते से भारतीय वायु सेना को आवश्यकताओं का समर्थन करने के लिए व्यावहारिक अध्ययन और प्रोटोटाइप विकास के लिए अनुसंधान में मदद मिलेगी। भारतीय वायु सेना के साथ साझेदारी में आईईटी मद्रास वायु सेना की रखरखाव कमान के बेस रिपेयर डिपो की क्षमता बढ़ाने और ‘सेल्फ रिलायंस’ हासिल करने की दिशा में स्वदेशीकरण के प्रयासों में महत्वपूर्ण योगदान देगा।

और पढ़ें : मुख्यमंत्री से स्कूलों के समय सारणी में बदलाव की मांग, कई बच्चों को हो रही है खून की उल्टियां

समझौता ज्ञापन पर वायु सेना की ओर से मुख्यालय रखरखाव कमांड के इंजीनियरिंग ऑफिसर (सिस्टम) एयर कमोडोर एस बहुजा और आईआईटी मद्रास की ओर से एयरोस्पेस इंजीनियरिंग के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर एचएसएन मूर्ति ने हस्ताक्षर किए।

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और खबरें देखने के लिए यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। www.avnpost.com पर विस्तार से पढ़ें शिक्षा, राजनीति, धर्म और अन्य ताजा तरीन खबरें…

This post has already been read 10868 times!

Sharing this

Related posts