अगस्ता वेस्टलैंड केस: सुशेन मोहन गुप्ता की जमानत याचिका पर सुनवाई 15 अप्रैल तक टली

नई दिल्ली। दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने अगस्ता वेस्टलैंड मामले में गिरफ्तार बिचौलिए सुशेन मोहन गुप्ता की जमानत याचिका पर सुनवाई टाल दी है। कोर्ट अब इस मामले पर 15 अप्रैल को सुनवाई करेगा। पिछले नौ अप्रैल को ईडी ने जमानत याचिका पर अपना जवाब पेश किया था। ईडी ने सुशेन की जमानत याचिका का विरोध किया था। पिछले आठ अप्रैल को कोर्ट ने सुशेन को 20 अप्रैल तक की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। पिछले छह अप्रैल को सुशेन मोहन गुप्ता ने जमानत याचिका दायर की थी। पिछले तीन अप्रैल को कोर्ट ने सुशेन मोहन गुप्ता को छह अप्रैल तक की ईडी हिरासत में भेजा था। पिछले 30 मार्च को कोर्ट ने तीन अप्रैल तक की ईडी की रिमांड पर भेज दिया था। उसके पहले 26 मार्च को कोर्ट ने सुशेन को 30 मार्च तक की ईडी हिरासत में भेजा था। सुशेन के वकील ने उसे हिरासत में भेजे जाने का विरोध किया था। ईडी ने सुशेन को 25 मार्च की रात में गिरफ्तार किया था। ईडी ने कोर्ट से बताया कि सुशेन जांच में सहयोग नहीं कर रहा था, इसी वजह से उसे हिरासत में लेकर पूछताछ करने की जरूरत है। ईडी के मुताबिक सुशेन अगस्ता हेलीकॉप्टर डील समेत कई रक्षा सौदों में कथित तामिल रहा है। ईडी के मुताबिक इस मामले में सरकारी गवाह बने राजीव सक्सेना से पूछताछ के बाद सुशेन की भूमिका का पता चला था। ईडी के मुताबिक सुशेन के पास अगस्ता हेलीकॉप्टर की खरीद में भुगतान संबंधी कुछ जानकारियां हैं। ईडी सुशेन से उसके संपर्कों के बारे में पता करने की कोशिश कर रही है। इसलिए उससे हिरासत में पूछताछ की जरूरत है। उल्लेखनीय है कि इस मामले में ब्रिटिश नागरिक और बिचौलिया क्रिश्चियन मिशेल अभी दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद है। इस मामले में ईडी और सीबीआई ने चार्जशीट दायर की है, जिसमें पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी, उनके भतीजे संजीव त्यागी और वकील गौतम खेतान को भी आरोपित बनाया गया है।

This post has already been read 5387 times!

Sharing this

Related posts