बंगाल पुलिस के पकड़ा एक फर्जी आईएएस अधिकारी. जाने क्या है मामला.

कोलकाता, 28 जून (हि.स.)। पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में पकड़ा गया फर्जी आईएएस अधिकारी देवांजन से पूछताछ में चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। कोलकाता पुलिस के संयुक्त आयुक्त अपराध मुरलीधर शर्मा ने सोमवार को बताया कि वह जगह-जगह आईएएस अधिकारी बनकर छापेमारी भी करता था और चीजों की बरामदगी भी करता था। इसके एवज में वह कारोबारियों से रुपये भी वसूलता रहा है।

क्या आप जानते है दुनिया की 5 सबसे अमीर मु,स्‍लिम महिलाओं के बारे में?! पहली बार लिस्ट आई सामने

पिछले सप्ताह बुधवार को फर्जी तरीके से कोलकाता नगर निगम के नाम पर टीकाकरण कैंप आयोजित करने के आरोप में गिरफ्तारी के बाद उससे लगातार पूछताछ हो रही है। उसके खिलाफ 10 से अधिक प्राथमिकी दर्ज की गई है। कोलकाता पुलिस की ख़ुफ़िया टीम उससे लगातार पूछताछ कर रही है पता चला है कि उसे 2020 के मार्च महीने में विधाननगर पुलिस कमिश्नरेट अंतर्गत इलेक्ट्रॉनिक कंपलेक्स थाने में बुलाकर उससे पूछताछ भी की गई थी।

एक व्यक्ति ने नौकरी के नाम पर ठगी का आरोप उस पर लगाया था। हालांकि शिकायत मौखिक थी और लिखित नहीं थी इसलिए बड़ी कार्यवाही नहीं हो सकी। यहां तक कि वह अपने मां बाप से भी झूठ बोला था और खुद को आईएएस अधिकारी बताता था लेकिन जब इलेक्ट्रॉनिक कंपलेक्स थाने की पुलिस ने उससे पूछताछ की तब उसके मां-बाप को पता चला कि वह आईएएस अधिकारी नहीं है।

ज्यादा ख़बरों के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को भी लाइक कर सकते हैं

उसने बताया है कि 2020 के अक्टूबर महीने में अशोक रॉय नाम के एक व्यक्ति से 65000 रुपये महीने पर अपना दफ्तर किराए पर लिया था। वहां कई लोगों को रखकर नौकरी के नाम पर ठगी करता था। उसके पास से कई फर्जी स्टैंप और दस्तावेज बरामद किए गए हैं। उससे और पूछताछ की जा रही है।

This post has already been read 3397 times!

Related posts