25 हजार टन एनटीपीसी का कोयला गायब

हजारीबाग  । एनटीपीसी के लिए कोयला खनन के ढुलाई में    लगी त्रिवेणी सैनिक माइनिंग लिमिटेड का नया मामला   करीब चार रैक कोयला गायब होने का सामने आया है। बताया जा रहा है कि 25 हजार से 28 हजार टन एनटीपीसी का कोयला गायब है।   एनटीपीसी की कोलयरी से कोयला रेवल रैक पर लोड होने के लिए कटकमदाग के बांका साईडिंग पर पहुंचा, लेकिन वहां से चार रैक कोयला कम भेजा गया। सूचना है कि त्रिवेणी कंपनी के अधिकारियों एवं लोडिंग अनलोडिंग करने वाले बड़े लोगों की मदद से यह कोयला खुले बाजार में बेच दिया गया। यह मामला तब खुला जब एनटीपीसी के लिए रैक में लोड होने के लिए भेजा     गया कोयला बांका साईडिंग में न गिरकर ईंट भट्ठे पर गिरया गया। इस संबंध में हाईवा चालक और हाईवा को पकड़ने के बाद थाना में प्राथमिकी दर्ज की गई। खोज बिन पर करीब चार रैक कोयला के गायब होने का खुलासा हुआ है।                                                                                                                                          अब त्रिवेणी कंपनी के अधिकारी और कोयले की लोडिंग अनलोडिंग में लगे लोग इस मामले पर पर्दा डालने के लिए आसपास पड़े पत्थरों पर कोयला डस्ट डालकर उसे कोयले में मिलाते हुए रैक से भेजने के प्रयास में लग गए हैं।    सूचना यह भी है कि बांका  साईडिंग के लिए कोयला लेकर निकला हाईवा कभी कटकमदाग कभी   बड़कागांव कभी पदमा कभी चरही कभी सदर थाना क्षेत्र के ईंट   भट्ठो पर गिराया जाता है। करीब तीन माह पूर्व बनारस की मंडी में 100 से अधिक ट्रकों पर लदा कोयला जब्त किया गया था और प्राथमिकी दर्ज करने की बात सामने आई थी। सूचना है कि वह कोयला भी एनटीपीसी का ही था। वैसे पूर्व में भी कोयले में चारकोल मिलाकर शेष बचे कोयले को बाजार में बेचे जाने का मामला पहले भी सामने आया है। अब देखना है कि इस मामले में एनटीपीसी के अधिकारी किनपर गाज गिराते हैं।

This post has already been read 5813 times!

Sharing this

Related posts