ग्लेनमार्क और सिप्ला को यूएस एफडीए से राहत

मुंबई। ग्लेनमार्क फॉर्मास्युटिकल्स और सिप्ला को अमेरिका एफडीए (यूएस एफडीए) की ओर से अपने उत्पादों के लिए अस्थायी मंजूरी मिली है। सिप्ला की एक टेबलेट्स को अंतिम मंजूरी मिल गई है। ग्लेनमार्क फॉर्मास्युटिकल्स लिमिटेड ने सूचित किया है कि कंपनी को 250 एमजी/5 एमएल (50 एमजी/एमएल) मात्रा के फ्युल्वेस्ट्रैंट इंजेक्शन के लिए यूएस एफडीए की अस्थायी मंजूरी मिल गई है, जो कि आस्ट्राजेनेका फॉर्मास्युटिकल्स एलपी के 250 एमजी/5 एमएल (50 एमजी/एमएल) मात्रा के फैस्लॉडेक्स इंजेक्शन का जेनरिक वर्जन है। इसी तरह, सिप्ला लिमिटेड ने भी सूचित किया है कि कंपनी को उसकी 20 एमजी मात्रा की टेडालाफिल टेबलेट्स के लिए यूएस एफडीए की अंतिम मंजूरी प्राप्त हो गई है। यह टेबलेट्स इलि लिली एंड कंपनी की एडसिरका का जेनरिक वर्जन है। देश की दिग्गज दवा कंपनी ग्लेनमार्क ने बताया कि चीन में उसकी ओर से निर्मित एक दवा को बेचने के लिए चीन की फॉर्मा कंपनी ग्रैंडफॉर्मा से एक्सक्लूसिव लाइसेंस एग्रीमेंट किया गया है। कंपनी इस एग्रीमेंट के जरिए चीन में इनवेस्टिगेशनल सीजनल एलर्जिक रायनिटिस नेजल स्प्रे रायल्ट्रिस को बेच सकेगी। ग्रैंडफॉर्मा ग्लेनमार्क की इस दवा के लिए चीन में रेगुलेटरी फाइलिंग और कॉमर्शियलाइजेशन का काम संभालेगी, जबकि ग्लेनमार्क फॉर्मा केवल ग्रैंडफॉर्मा रेगुलेटरी फाइलिंग और अप्रूवल का काम करेगी। भारतीय कंपनी को इस करार के तहत एकमुश्त रकम के साथ ही कॉमर्शियल माइलस्टोन पेमेंट और रॉयल्टी भी मिलेगी। ग्लेनमार्क ने हालांकि यह नहीं बताया है कि उसे ग्रैंडफॉर्मा से कितनी रकम मिलेगी।

This post has already been read 7210 times!

Sharing this

Related posts