‘रहस्यमय’ बुखार ने मचाया कोहराम, गई आधा दर्जन बच्चों की जिंदगी, लोग गाव छोड़ने को क्यों है मजबूर….

उत्तर प्रदेश के मथुरा के गांव कोह में अज्ञात बीमारी ने मचाया हुवा है कोहराम। इस बीमारी के चलते अब तक करीब आधा दर्जन बच्चों की दर्दनाक मौत हो चुकी है। इसके बाद विधायक समेत जिले के तमाम आला अधिकारी मौके पर पहुचना सुरु कर दिए है। गांव के लोगों ने बच्चों की मौतों का जिम्मेदार स्वास्थ्य विभाग को बताया है। आरोप है कि 10 दिन पहले स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को बीमारी फैलने की सूचना दे दी गई थी। अधिकारियों ने बीमारी को नजरअंदाज किया और इस वजह से आज लाशों के ढेर लग गए। गांव में भारी पुलिस बल तैनात किया गया है और स्थानीय विधायक भी मौके पर मौजूद हैं, जो लोगों को समझाने में जुटे हुए हैं।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए आप avnpost.com का app इंस्टॉल करें और पढ़ते रहें सभी तरह की तमाम ख़बरें
प्लेस्टोरे से एप्प डाउनलोड करें : https://play.google.com/store/apps/details?id=avnpost.com

मौतों से आक्रोशित हुवे ग्रामीण
इस अज्ञात बीमारी से लगातार हो रही मौतों से कोहराम मचा हुआ है। अब तक करीब आधा दर्जन मौतें 4 से 15 वर्ष के बच्चों की हो चुकी हैं। गांव में मातम पसरा हुआ है। वहीं जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ-साथ विधायक भी मौके पर लोगों से बातचीत कर रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग के खिलाफ ग्रामीणों में आक्रोश पनपा हुआ है। स्थाई लोगो ने कहा की यहाँ मौतों का यह सिलसिला 20 अगस्त से लगातार चल रहा है। अब तक आधा दर्जन से अधिक मौतें हो गई हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को सूचना दी गई थी लेकिन कोई भी अधिकारी सुनने को तैयार नहीं है। 10 दिन से बीमारी फैली हुई है और डॉक्टरों की टीम ने आज सुध ली है।

इसे भी देखे : टीवी इंडस्ट्री के बड़े चेहरे और बिग बॉस 13 के विजेता सिद्धार्थ शुक्ला का निधन

हॉस्पिटल में करीब 100 लोग भर्ती है
आगरा, मथुरा, भरतपुर में करीब 100 आदमी और बच्चे हैं। भर्ती गांव कोह के पूर्व प्रधान से जब बात की गई तो उन्होंने बताया कि 4 दिन में लगभग 8 मौत हो गई है। आगरा, मथुरा, भरतपुर में करीब 100 आदमी और बच्चे भर्ती हैं। डीएम साहब ने सीएमओ साहब के लिए और सीएमओ साहब ने सीएचसी प्रभारी से बात करने के लिए कह दिया है। कोई अपनी जिम्मेदारी नहीं समझ रहा है।

मौतों के बाद जागा प्रशासन
बीमारी से हो रही मौतों कि जब अधिकारियों और विधायक को पता चली तो आनन-फानन में अधिकारी और विधायक मौके पर पहुंचे। स्वास्थ्य विभाग और नगर पंचायत की ओर से गांव में सैनिटाइज कराने की प्रक्रिया शुरू की गई। वहीं स्वास्थ्य विभाग की ओर से ग्रामीणों को मास्क और सैनिटाइजर भी बांटे जा रहे हैं।

This post has already been read 23851 times!

Related posts