कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार पर गहराया संकट, कांग्रेस और जेडीएस के 11 विधायकों ने दिया इस्तीफा

नई दिल्ली: कर्नाटक में एकबार फिर सियासी संकट गहराता दिख रहा है। कर्नाटक की कुमारस्वामी सरकार पर संकट के बादल दिख रहे हैं। बताया जा रहा है कि कांग्रेस और जेडीएस के 11 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया है। इनमें 8 कांग्रेस और 3 जेडीएस के विधायक है। हालांकि जब ये विधायक इस्तीफा देने पहुंचे उस वक्त वहां स्पीकर मौजूद नहीं थे। जिसके बाद इन विधायकों ने अपना इस्तीफा विधानसभा अध्यक्ष के सचिव को सौंप दिया। राज्य विधानसभा के स्पीकर रमेश कुमार का कहना है कि कांग्रेस और जेडीएस के 11 विधायकों का इस्तीफा उनके दफ्तर में आया है। साथ ही उन्होंने कहा कि वो सोमवार को वे वापस बेंगलुरु लौटेंगे और उसके बाद इन इस्तीफों को पढ़कर आगे का फैसला लिया जाएगा। इन सबके बीच खबरें आ रही है कि अमेरिका के दौरे पर गए मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी अपना दौरा बीच में ही छोड़कर सोमवार को ही वापस लौट रहे हैं। बताया जा रहा है कि इस संकट से निपटने के लिए वो जल्द ही अपने मंत्रीमंडल में विस्तार कर सकते हैं। ऐसे में लंबे समय से मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी सरकार पर चले आ रहे संकट ने अब दिलचस्प मोड़ ले लिया है।


ये विधायक देने पहुंचे इस्तीफा…

एच विश्वनाथ- जेडीएसनारायण गौड़ा- जेडीएसगोपालिया- जेडीएसमहेश कुम्थली- कांग्रेसबी सी पाटिल – कांग्रेसरमेश जर्कीहोली – कांग्रेसशिवराम हेब्बर- कांग्रेसप्रताप गौड़ा – कांग्रेसकांग्रेस और जेडीएस के आठ विधायकों के इस्तीफे के बाद कर्नाटक में राजनीतिक संकट गहरा गया है। कर्नाटक में सरकार बने अभी एक साल भी पूरे नहीं हुए हैं और सरकार पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं। कांग्रेस के विजयनगर विधायक आनंद सिंह और गोकके विधायक राजेश जरकीहोली ने अपनी विधानसभा की सदस्यता से पहले ही इस्तीफा दे दिया था। इन दो इस्तीफों के बाद कर्नाटक में कांग्रेस के अब 77 विधायक बचे थे जबकि जेडीएस के पास 37 विधायक बचे हैं। 224 सीटों वाले कर्नाटक विधानसभा में सत्ता हासिल करने का जादुई आंकड़ा 113 है। दूसरी ओर मुख्य विपक्षी भाजपा के पास 105 विधायक हैं, बहुजन समाज पार्टी का एक विधायक और एक स्वतंत्र विधायक है। नए इस्तीफों के बाद कुमार स्वामी सरकार के पास सत्ता में बने रहने के उतने विधायक नहीं बचे हैं, जितनी उन्हें जरूरत है। आपको बता दें क िपिछले साल हुए कर्नाटक विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 70 और जेडीएस ने 35 सीटों पर जीत हासिल करके सरकार बनाई थी। जबकि बीजेपी ने 104 सीटें जीती थी। यह पहला मौका नहीं है जब कर्नाटक में गठबंधन सरकार को बनाए रखने की चुनौती आई हो। इससे पहले भी कांग्रेस के विधायकों के बीजेपी के संपर्क में होने की बात सामने आई थी। उस दौरान कहा गया था कि कांग्रेस के कुछ विधायक पार्टी से नाराज हैं और बीजेपी के साथ जाना चाहते हैं। हालांकि कांग्रेस पार्टी ने इन तमाम अटकलों को गलत बताया था।

This post has already been read 7408 times!

Sharing this

Related posts