घर पर ही तैयार की गई थी, ऑनर किलिंग की वारदात की साजिश

Godda : पथरगामा थाना क्षेत्र में गत 13 जुलाई को जमजोरी पोखर में बोरे में बंद युवती की शिनाख्त 19 वर्षीय ओलकी होने के बाद ऑनर किलिंग का मामला प्रकाश में आया है। पथरगामा थाना पुलिस ने पूरे मामले में तहकीकात करते हुए पता लगाया है कि ओलकी के फूफा पथरगामा के गांधीग्राम निवासी संजीव यादव के घर पर ही इस ऑनर किलिंग की वारदात की पृष्ठभूमि तैयार हुई थी। पुलिस ने शनिवार को प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि किस प्रकार से सुनियोजित तरीके से मालदा से युवती को गांधीग्राम बुलाकर उसे मौत के घाट उतार दिया गया।

और पढ़ें : झारखंड पुलिस के लिए यह बहुत बड़ी उपलब्धि रही : डीजीपी नीरज सिन्हा

पथरगामा थाना प्रभारी बलिराम रावत को इसकी गुप्त सूचना मिली थी कि मालदा जिले के गजौल थाना क्षेत्र के सान चेनमोना गांव की ओलकी की मौत हुई है। लड़की सान चेनमोना गांव के रूपचंद मंडल से प्रेम करती थी। घर वाले इस रिश्ते से नाराजद थे। इसी कारणलड़की के पिता घनश्याम यादव ने अपने बहनोई गांधीग्राम के संजीव यादव के साथ मिलकर ओलकी की हत्या की योजना बनाई और युवती और उसके प्रेमी रूपचंद को बहला फुसलाकर मालदा से गांधीग्राम लाया गया। इधर रास्ते में ही लड़की से अलग रखकर रूपचंद को मारपीट कर भगा दिया गया और ओलकी को यह विश्वास दिलाया कि उसकी शादी रूपचंद से गांधीग्राम में करा दी जाएगी। गांधीग्राम आने के बाद ओलकी की हत्या कर दी गई और तीन दिन तक शव को घर पर ही रखा।

इसे भी देखें : एक तरफ भाजपा तो दूसरी तरफ कांग्रेस ने किया विरोध प्रदर्शन, समेत पांच प्रमुख ख़बरें

इसमें लड़की के चाचा सुंदर यादव की भूमिका अहम थी। सुंदर यादव को बंगाल पुलिस ने गिरफ्तार किया है। उसने अपना जुर्म भी कबूल लिया है। पुलिस ने कॉल डिटेल के अनुसार यह पता लगाया था कि सुंदर यादव गांधीग्राम आया था। पूरे मामले की तफ्तीश पूरी होने के बाद पुलिस ने शुक्रवार की रात एक साथ मालदा और गांधीग्राम में छापेमारी कर कुल आठ हत्यारों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपितों में लड़की का फूफा गांधीग्राम निवासी संजीव यादव, उसके पिता राजेंद्र यादव और संजीव की पत्नी, बच्चे सहित महुआसोल निवासी राजेंद्र यादव शामिल है। मालदा से गिरफ्तार सुंदर यादव ने हत्या की बात कबूली है।

This post has already been read 1156 times!

Sharing this

Related posts