रणजी टीम में सलेक्शन के नाम पर 3 क्रिकेटर्स से 80 लाख का धोखा, बीसीसीआई ने पुलिस शिकायत की

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की एंटी करप्शन यूनिट (एसीयू) को तीन क्रिकेटर्स कनिष्क गौड़, किशन अत्री और शिवपाल शर्मा से शिकायतें मिली थीं। जिसके मुताबिक उन्हें पिछले सीजन के रणजी ट्रॉफी के लिए उत्तर पूर्वी तीन टीमों में चुने जाने की बात कही गई थी। जानकारी के मुताबिक यह मामला तब सामने आया जब एसीयू के अधिकारी अंशुमान उपाध्याय की तरफ से शिकायत दर्ज कराई गई। इन तीनों से नागालैंड, मणिपुर और झारखंड टीमों में जगह दिए जाने के एवज में 80 लाख रुपए लिए गए। पुलिस अधिकारी के मुताबिक, इन क्रिकेटर्स को जो दस्तावेज दिए गए थे, उसके मुताबिक इनको टीम में चुना जा चुका हैं, वैसे बाद में यह मालूम हुआ की कागजात इनको दिए गए वह जाली थे। पुलिस को बताया कि एक कोच से उनको पिछले साल मिलवाया गया था, जहां उनको गेस्ट प्लेयर के तौर पर नागालैंड की टीम से खेलने की पेशकश हुई। आगे उन्होंने बताया कि उनको नागालैंड क्रिकेट टीम के कोच और कुछ सदस्यों से मुलाकात करने के लिए बुलाया गया। उनसे 5 मैच के एवज में 15 लाख रुपये देने के लिए कहा गया। उनको चयन के जाली दस्तावेज दिए गए, जिसमें उनके सलेक्शन किए जाने की बात थी। उन्होंने नागालैंड की अंडर -19 टीम के लिए सिर्फ दो मैच खेले और फिर आगे खेलने नहीं मिला। जब इस बारे में पूछताछ की गई, तो उन्हें मालूम हुआ जो दस्तावेज बनवाए गए थे वो जाली हैं।

This post has already been read 5899 times!

Sharing this

Related posts