विश्व उर्दू सम्मेलन में नहीं बुलाए जाएंगे पाकिस्तानी विद्वान: डॉक्टर अहमद

नई दिल्ली। राष्ट्रीय उर्दू भाषा विकास परिषद के निदेशक डॉक्टर शेख अक़ील अहमद ने कहा कि 18 से 20 मार्च के दौरान होने वाले ‘विश्व उर्दू सम्मेलन’ में किसी भी पाकिस्तानी साहित्यकार को नहीं बुलाया जाएगा।
अहमद ने कहा कि पाकिस्तान के 9 उर्दू विद्वानों को इस सम्मेलन में आमंत्रित किया गया था लेकिन पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद इन सभी 9 विद्वानों को दिया गया दावतनामा वापस ले लिया गया है।
उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के किसी साहित्यकार को तब तक वो नहीं बुलाएंगे जब तक की पाकिस्तान आतंकियों के कैंप खत्म नहीं कर देता।
उल्लेखनीय है कि इस सम्मेलन के लिए प्रधानमंत्री ने अपना लिखित संदेश भेजा है। इस संदेश में आयोजकों को बधाई देते हुए उर्दू को तकनीक से जोड़ने की अपील की है। तीन दिनों तक चलने वाले इस विश्व उर्दू सम्मेलन का उद्घाटन मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर करेंगे। इस कार्यक्रम में 15 देशों के उर्दू भाषा के साहित्यकार, शायर और विद्वान हिस्सा लेंगे। यह आयोजन दिल्ली के लोधी रोड स्थित स्कूप हाउस में किया जाएगा।

This post has already been read 5301 times!

Sharing this

Related posts