हमारी सरकार ने देश में नीतिगत जड़ता को खत्म किया: प्रधानमंत्री

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कहा कि उनकी सरकार के आने से पहले देश में एक तरह से नीतिगत जड़ता बनी हुई थी और महंगाई उच्चतम स्तर पर थी। उन्होंने पिछले साढ़े चार सालों में देश में कई तरह के रिफॉर्म लागू कराए, जिनके चलते स्थिति पूरी तरह से बदल गई और अब बदलाव स्पष्ट रूप से दिखाई भी देने लगा है।
दिल्ली में अंग्रेजी समाचार पत्र की ओर से आयोजित वैश्विक बिजनेस सम्मेलन में प्रधानमंत्री ने कहा कि वह देश को बिजली से चलने वाले वाहनों में वैश्विक नेतृत्व करते हुए देखना चाहते हैं। वह चाहते हैं कि बड़ी संख्या में स्टार्टअप तैयार हो ताकि देश जल्द ही 10 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बन सके। पिछली सरकार की आलोचना करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछली सरकारों में व्यक्ति और मंत्रालयों के बीच आपस में भ्रष्टाचार और काम टालने की एक एक प्रतिस्पर्धा चल रही थी। इसके लिए नए-नए तरह के उपाय खोजे जा रहे थे।
प्रधानमंत्री ने कहा कि पहले तीन बार हुई औद्योगिक क्रांति में भारत ने भागीदारी नहीं की लेकिन अब हमें गर्व करना चाहिए कि चौथी औद्योगिक क्रांति में भारत सक्रिय भागीदारी करने जा रहा है। उन्होंने कहा कि वह देश की 130 करोड़ जनता के लिए नए भारत का निर्माण करना चाहते हैं। उनकी नीतिगत सोच में दो विषय प्रमुख हैं कि भविष्य की चुनौतियों से कैसे निपटा जाए और अतीत में पैदा हुई समस्याओं को कैसे सुलझाया जाए।
नरेन्द्र मोदी ने कहा कि हमारी सरकार गरीबों की मदद और विकास के लिए बनी है। पहले कहा जाता था कि प्रक्रिया में से भ्रष्टाचार को हटाना संभव नहीं है लेकिन देश की जनता ने ऐसा करके दिखा दिया। गरीब तक तकनीक की पहुंच बना पाना संभव नहीं है लेकिन देश के लोगों ने इसे संभव कर दिया है।

 

This post has already been read 5986 times!

Related posts