झारखंड में कोरोना के मद्देनजर सरकार छह अप्रैल को ले सकती है बड़े फैसले

रांची : झारखंड में कोरोना के संक्रमण में लगातार हो रही वृद्धि को देखते हुए हेमंत सरकार महत्वपूर्ण निर्णय ले सकती है। सूत्रों ने बताया कि आशंका जताई जा रही है कि एक बार फिर कुछ सीमाओं तक प्रतिबंध लगाया जा सकता है। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते प्रकोप को लेकर बेहद चिंतित हैं। मुख्यमंत्री लगातार स्वास्थ्य विभाग और आपदा प्रबंधन विभाग के अधिकारियों के संपर्क में हैं। छह अप्रैल को मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की प्रस्तावित बैठक में इससे संबंधित निर्णय लिया जा सकता है। सूत्रों ने बताया कि झारखंड में फिर से पार्क, सिनेमाघर,जिम आदि के संचालन पर कुछ सीमाओं के साथ प्रतिबंध लगाया जा सकता है। राज्य सरकार कंटेनमेंट जोन में आंशिक रूप से लॉकडाउन की भी घोषणा कर सकती है। बताया जा रहा है कि आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक में कोरोना संक्रमण की स्थिति की अद्यतन समीक्षा कर आवश्यक निर्णय लिया जाएगा। इस संबंध में राज्य सरकार केंद्र सरकार के दिशा-निर्देशों का भी इंतजार कर रही है। राज्य सरकार स्कूलों को खोलने को लेकर भी उहापोह की स्थिति में है। जिस प्रकार से राज्य में कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है, उसे देखते हुए फिलहाल निचली कक्षाओं (कक्षा सात तक) के लिए स्कूल खुलने की कोई संभावना नहीं नजर आ रही है। स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग ने एक अप्रैल से कक्षा एक से सात तक के लिए भी स्कूलों को खोलने की अनुमति आपदा प्रबंधन प्राधिकरण से मांगी थी, लेकिन अचानक संक्रमण में वृद्धि होने पर इस दिशा में कोई निर्णय नहीं हो पाया। सूत्रों का कहना है कि अगर इसी तरह से लगातार कोरोना संक्रमण की संख्या बढ़ती रहे तो सरकार लॉकडाउन की भी घोषणा कर सकती है। उल्लेखनीय है कि झारखंड में कोरोना संक्रमण का दायरा लगातार बढ़ता जा रहा है।  राज्य से शुक्रवार को 694 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले थे। कोरोना की दूसरी लहर में एक दिन में राज्य में मिले मरीजों की यह सबसे बड़ी संख्या थी। साथ ही नये साल की भी यह सबसे बड़ी संख्या थी।  रांची में 368 कोरोना मरीज मिले थे। 

This post has already been read 1388 times!

Sharing this

Related posts