गया में जेई बुखार से 06 की मौत

गया। गया जेई बुखार की चपेट में है।24 पीड़ित  बच्चों को गया के अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल कॉलेज सह अस्पताल मे भर्ती कराया गया जिनमें छह बच्चों की मौत हो चुकी है।  प्रमंडलीय आयुक्त पंकज कुमार पाल एवं जिलाधिकारी अभिषेक कुमार सिंह ने बुधवार को मेडिकल कालेज जाकर पीड़ित  बच्चों एवं उनके परिजनों से अस्पताल में हो रहे इलाज के बारे में जानकारी ली।साथ ही अधीक्षक से चिकित्सीय सेवा को लेकर पूछताछ की। 

इसके पूर्व मंगलवार की शाम डा.सुखबीर सिंह के नेतृत्व में चार सदस्यीय केंद्रीय टीम  पीड़ित  बच्चों को देखने मेडिकल कालेज पहुंची। प्रमंडलीय आयुक्त श्री पाल ने मीडिया को बताया कि प्रशासन जेई और एईएस से पीड़ितों  को लेकर काफी गंभीर है।तीन बच्चों को इलाज के बाद अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है । आयुक्त श्री पाल ने जानकारी देते हुए कहा कि मेडिकल कालेज में 60 बेड जेई और एईएस पीड़ितों  के लिए सुरक्षित रखा गया है।

किसी भी स्थिति से निपटने के लिए अस्पताल प्रशासन और जिला प्रशासन तैयार है। प्रमंडलीय आयुक्त  ने कहा कि आवश्यकता पड़ी  तो पटना से भी चिकित्सक और अन्य चिकित्सीय सुविधा गया में उपलब्ध करा दी जाएगी। जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने बताया कि राज्य सरकार ने टाल फ्री नंबर 104 की सुविधा उपलब्ध कराई है जिसपर कोई भी फोन करके जेई और एईएस संबंधित जानकारी और सुझाव दे सकते हैं। 

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य प्रो विजय कुमार मिट्ठू , बाबू लाल प्रसाद सिंह, अभिषेक श्रीवास्तव, शिव कुमार चौरसिया, श्रीकांत शर्मा, राम प्रवेश सिंह, विनोद उपाध्याय, प्रो अमर सिंह सिरमौर, विपिन बिहारी सिन्हा, कुंदन कुमार आदि ने अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में चमकी बुखार से 22 जून से अभी तक 06 बच्चों  की मौत होने तथा अभी भी 22 बच्चों के भर्ती रहने के बाद भी सरकार पर मामले को लेकर गंभीर नहीं रहने का आरोप लगाया है। नेताओं  ने कहा कि मेडिकल कॉलेज में इस रोग की जांच की कोई व्यवस्था नहीं है।जांच के नाम पर नित्य दिन अधीक्षक और  डाक्टर जांच का सैंपल पटना भेजने की बात करते हैं । एक बच्चे की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आयी  है जिससे जापानी इंसेफलाइटिस की पुष्टि हुई है। 

This post has already been read 6286 times!

Sharing this

Related posts