मॉब लिंचिंग के खिलाफ बवाल मामले में चार मामले दर्ज


नगर विकास मंत्री सीपी सिंह घायल चंदन और विवेक को देखने पहुंचे मेडिका अस्पताल घटनाक्रम की जानकारी लेने के बाद मंत्री ने दिया दोषियों पर सख्त कार्रवाई का निर्देश

रांची। राजधानी रांची में मॉब लिंचिंग के नाम पर शुक्रवार को एक समुदाय के लोगों ने जमकर बवाल मचाया। सड़क जाम, वाहनों में तोड़फोड़, बिना अनुमति के जुलूस निकालने और समुदाय विशेष के तीन युवकों के साथ मारपीट करने के मामले में चार अलग अलग प्राथमिकी दर्ज की गयी है। दो प्राथमिकी डोरंडा थाने और दो हिंदपीढ़ी थाने में दर्ज की गई है।

राजेंद्र चौक पर वाहनों में तोड़फोड़ करने के मामले में अज्ञात 400 लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। जबकि समुदाय विशेष के तीन युवकों के साथ मारपीट मामले में 25 अज्ञात लोगों को अभियुक्त बनाया गया है। एकरा मस्जिद के पास तोड़फोड़ और सड़क जाम करने के मामले में दो प्राथमिकी दर्ज की गई है। एसएसपी अनीश गुप्ता ने शनिवार को बताया कि इस मामले में 4 प्राथमिकियां दर्ज की गई हैं।

सीसीटीवी फुटेज के आधार पर चिह्नित कर उपद्रवियों पर कार्रवाई की जाएगी। उपद्रवियों ने मेन रोड में दो युवकों की पिटाई की। उनमें चंदन उर्फ विवेक श्रीवास्तव और दीपक घायल हो गए हैं। चंदन को कमर और पेट में चाकू मारा गया है। इसके बाद चंदन को मेडिका अस्पताल में एडमिट कराया गया। रातू रोड, इंद्रपुरी के रहने वाले हैं। नगर विकास मंत्री सीपी सिंह शनिवार को घायल विवेक से मिलने मेडिका अस्पताल पहुंचे और घटना की पूरी जानकारी ली। उन्होंने प्रशासन से दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का आदेश दिया है। उल्लेखनीय है कि रांची में शुक्रवार को दोपहर बाद से रात तक मॉब लिंचिंग के विरोध के नाम पर बवाल होता रहा। दोपहर में मुत्तेहदा मुस्लिम महाज की ओर से डोरंडा के रिसालदार मैदान में मॉब लिंचिंग के खिलाफ जनाक्रोश सभा का आयोजन किया गया था।

इस सभा से लौटते लोगों ने एक जुलूस का शक्ल ले लिया और डोरंडा के राजेंद्र चौक पर एक बस पर जुलूस के लोगों ने पथराव कर दिया। कई वाहनों के शीशे तोड़ दिए। हालांकि पुलिस के पहुंचने पर मामला शांत हो गया। शाम को एयरपोर्ट के पीछे मैदान में समुदाय विशेष के तीन युवकों को 20 से 25 लोगों ने पीट दिया था। युवकों की ओर से दर्ज कराई गई प्राथमिकी के मुताबिक पीटने वालों ने जय श्रीराम के नारे लगाने के लिए भी मजबूर किया। सूचना फैलते ही देर रात मेन रोड स्थित एकरा मस्जिद के इलाके में लोग जुटने लगे और रोड जाम कर दी गई और कुछ वाहनों में तोड़फोड़ भी की गई। सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस बल पहुंच गया और लोगों से घरों में जाने की अपील की।

इसी समय शुरू हुई तेज बारिश और पुलिस के इंतजाम की वजह से भीड़ धीरे-धीरे हट गई। पुलिस की तत्परता ने राजधानी को एक बार फिर से जलने से बचा लिया। मौके पर एसएसपी अनीश गुप्ता, सिटी एसपी हरिलाल चौहान, सिटी डीएसपी अमित कुमार सिंह, कोतवाली डीएसपी अजीत कुमार विमल सहित कई पुलिस के अधिकारी पहुंचे और माहौल को नियंत्रित किया। मालूम हो कि सरायकेला जिले में तबरेज अंसारी की मॉब लिंचिंग में हुई मौत के खिलाफ एक समुदाय के लोगों ने जुलूस निकाला था।

This post has already been read 7416 times!

Sharing this

Related posts