जैसे को तैसा

-विष्णु शर्मा- किसी नगर में एक व्यापारी का पुत्र रहता था। दुर्भाग्य से उसकी सारी संपत्ति समाप्त हो गई। इसलिए उसने सोचा कि किसी दूसरे देश में जाकर व्यापार किया जाए। उसके पास एक भारी और मूल्यवान तराजू था। उसका वजन बीस किलो था। उसने अपने तराजू को एक सेठ के पास धरोहर रख दिया और व्यापार करने दूसरे देश चला गया। कई देशों में घूमकर उसने व्यापार किया और खूब धन कमाकर वह घर वापस लौटा। एक दिन उसने सेठ से अपना तराजू मांगा। सेठ बेईमानी पर उतर गया।…

Read More

जानें क्या है आपके बच्चों के सीखने की सही उम्र

स्कूल जाने से पहले ही बच्चे लगभग तीन वर्ष की आयु तक अक्षरों और कागज पर खींची गई टेढ़ी-मेढ़ी लकीरों का अंतर समझने लगते हैं। यह काबिलियत इस बात का संकेत है कि अब आपका बच्चा पढ़ाई-लिखाई के लिए तैयार है। एक नए शोध से यह बात सामने आई है। अधिकतर बच्चे पांच साल की आयु और प्लेस्कूल जाने से पहले औपचारिक तौर पर कोई शिक्षा ग्रहण नहीं करते हैं, लेकिन अध्ययन इस बात का संकेत देता है कि तीन साल की उम्र में आप बच्चों की पढ़ने और सीखने…

Read More

कबूतर और बहेलिया

जंगल में एक बहुत बड़ा बरगद का पेड़ था। उस पर तरह-तरह के पक्षी रहते थे। एक दिन एक बहेलिए ने आकर उस पेड़ के नीचे अपना जाल फैला दिया और दाने डालकर स्वयं उस विशाल पेड़ के पीछे छिपकर बैठ गया। कुछ समय बाद उधर से कबूतरों का एक झुंड आता दिखाई दिया। बहेलिए की खुशी का ठिकाना न रहा। धीरे-धीरे सारे कबूतर दानों के लालच में आकर उस स्थान पर बैठ गए, जहां पर जाल बिछा हुआ था। कुछ समय बाद सभी कबूतर बहेलिए के बिछाए जाल में…

Read More

पहली बार बच्चों को ब्रश करवा रहें है तो रखें इन 9 बातों का ध्यान

छोटे बच्चों की देखभाल के साथ साथ उनकी साफ सफाई का ध्यान रखना बहुत ही जरुरी होता है, क्योंकि बच्चों को नहीं पता होता है कि उन्हें किस तरह से अपनी हेल्थ का ध्यान रखना चाहिए। नई मांओं के मन में हमेशा इस बात को लेकर सवाल रहते है कि किस तरह से हमें ब्रश करना चाहिए, उन्हें ब्रश करवाने का सही तरीका क्या हैं। जिस तरह से हर बच्चे का बड़ा होने का समय अलग अलग होता है उसी तरह से उनके दांत भी अलग अलग समय पर निकलते…

Read More

नींद में नहीं पड़ेगी गीलेपन की खलल

बच्चा रात में सूखे बिस्तर पर सोता है और सुबह बिस्तर गीला मिलता है। ऐसे में आपके चेहरे पर बल और उसके चेहरे पर झेंप आना लाजमी है। पर यकीन मानिए यह समस्या बेहद आम है। इससे निजात पाने के लिए आपको बस थोड़ी-सी मेहनत करने की जरूरत पड़ेगी। कैसे? बता रही है दिव्यानी त्रिपाठी आपका बच्चा भी क्या रात में सोते वक्त बिस्तर गीला कर देता है? अगर हां, तो इस समस्या से निजात पाने के लिए कुछ प्रयास करने होंगे। बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. पंकज टंडन की मानें…

Read More

बच्चों का स्ट्रेस कम करने में ऐसे मदद करें पैरंट्स

जब बच्चे अपना स्कूल फिनिश कर कॉलेज में एंट्री कर रहे होते हैं तो जाहिर सी बात है उन पर दोस्तों, संगी-साथियों और हमउम्र लोगों का अतिरिक्त प्रेशर होता है। इन सबके बीच किसी अच्छे कॉलेज में ऐडमिशन लेना, अपने करियर को बेहतर दिशा देना और दोस्तों के एक अच्छे ग्रुप का हिस्सा बनने का भी प्रेशर बच्चों पर होता है। क्योंकि इस उम्र के बच्चे, दरअसल अब बच्चे नहीं होते बल्कि टीनएज हो चुके होते हैं जो वयस्क होने के बॉर्डर लाइन पर होते हैं। ऐसे में कई तरह…

Read More

कान बहने की समस्या को घरेलू उपचार से करें दूर

जब किसी व्यक्ति के कान से तरल पदार्थ निकलता है, तो उसे कान बहना या ओटेारिया कहा जाता है। वैसे तो यह समस्या छोटे शिशुओं व बच्चों में अधिक देखने को मिलती है, लेकिन किसी भी उम्र का व्यक्ति इससे प्रभावित हो सकता है। ज्यादातर कान से बहने वाला पदार्थ ईयरवैक्स होता है। यह एक तरल पदार्थ होता है जो शरीर में स्वाभाविक रूप से पैदा होता है। वहीं कई बार कान से ब्लड, पस या अन्य प्रकार का द्रव भी निकलता है। जो बताता है कि आपका ईयरडम चोटिल…

Read More

बच्चा पहली बार जा रहा है स्कूल तो जरूर सिखाएं ये 6 बातें

कहते ही बच्चे की पढ़ाई-लिखाई घर से ही शुरू होती है। बच्चे जो देखते हैं, वही करते हैं। इसलिए जरूरी है कि बच्चे को न सिर्फ अच्छी आदतें सिखाएं बल्कि समय-समय पर उनका मार्गदर्शन करना चाहिए। एक बच्चे का दिमाग खाली किताब की तरह होता है। इसलिए जो भी उसे सिखाएं बेहद समझदारी, प्यार और धीरज के साथ सिखाएं। बच्चा अगर स्कूल जाना शुरू कर रहा है, तो ऐसे में यह और भी जरूरी हो जाता है। कुछ बातें हैं जो बच्चों को स्कूल भेजने से पहले सिखाने की जरूरत…

Read More

खाने की यह आदतें बनाती हैं बच्चों को स्मार्ट

आजकल बच्चे जंक फूड खाना ज्यादा पसंद करते हैं, जैसे पिज्जा, बरगर, न्यूडलस। लेकिन शायद आप यह नही जानते कि ऐसा खाना आपके बच्चे की सेहत को तो नुक्सान पहुंचाता ही हैं, साथ ही साथ दिमाग के विकास पर भी बुरा असर डालता है। पैकड फूड और जंक फूड में हाई कैलोरी तो होती है लेकिन इसमें पौषक तत्वों की बहुत कमी होती है। जिससे उनका विकास रूक सकता है। बच्चे के खाने की आदत का उनके मानसिक स्वास्थ्य को भी बहुत प्रभवित करता है। यादाशत और सोचने में कमी,…

Read More

(कहानी) पछतावा…

-डॉ. योगेंद्रनाथ शुक्ल- ये जूते कितने के हैं? साहब, आठ सौ पचास रुपए के। दुकानदार से भाव सुनकर धीरज बाबू ने अपने बेटे को धीरे से समझाया पुनीत! मैं तुम्हें दूसरी दुकान लिए चलता हूं… ये जूते बहुत महंगे हैं। दोनों उस दुकान से बाहर निकलने लगे। अरविंद के पिताजी और मेरे पिताजी एक ही पद पर हैं लेकिन दोनों में कितना अंतर है, उसके पिताजी उसकी हर मांग पूरी करते हैं, उसकी हर चीज कितनी अच्छी होती है और मेरे पिताजी को खरीदते समय कितना सोचते हैं? अपने मनपसंद…

Read More