10वीं अनुसूची को जला देना चाहिए दल-बदल मामले में आये फैसले से नाराज : बाबूलाल मरांडी

रांची : शनिवार को झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने पीसी कर दल-बदल मामले में आये फैसले पर नाराजगी जतायी. उन्‍होंने कहा कि दब-बदल करने वाले सभी 6 विधायकों की सदस्‍यता रद्द हो. उन्‍होंने कहा कि विधानसभा अध्यक्ष के न्यायाधिकरण में सुनाया गया फैसला 10वीं अनुसूची के खिलाफ है. जनता जिस रूप में चुनेगी, उसी रूप में रहना है. बाबूलाल मरांडी ने न्‍यायाधिकरण के फैसले पर भी सवाल उठाया.

उन्‍होंने कहा कि 10वीं अनुसूची को जला देना चाहिए. उन्‍होंने बीजेपी पर निशाना साधते हुये कहा कि ये संविधान के रखवाले नहीं,  बेईमान लोग हैं. उन्‍होंने कहा कि हाइकोर्ट और जनता के दरबार में जाएंगे. जनता जिस रूप में चुनेगी, उसी रूप में रहना है. उन्‍होंने कहा कि इस फैसले के बाद लोकतंत्र में दूसरे दल भी यही करेंगे. उन्‍होंने कहा कि बीजेपी के लोग रोयेंगे.वहीं बाबूलाल मरांडी के 10वीं अनुसूची जलाने के सवाल पर बीजेपी के प्रतुल शाहदेव ने कहा कि सार्वजनिक तौर पर बाबूलाल को माफी मांगनी चाहिए. एक पूर्व मुख्यमंत्री के जुबान से ऐसा बयान बेहद अफसोस जनक है.

 

This post has already been read 6691 times!

Sharing this

Related posts