यूं लैंडलाइन फोन में बदल लें आइफोन को

माना कि आज मोबाइल फोन हर व्यक्ति के लिए अनिवार्यता बन चुका है और पारंपरिक किस्म के लैंडलाइन फोन धीरे-धीरे विलुप्त होते जा रहे हैं, लेकिन फिर भी पुराने दौर के टेलीफोन की उपयोगिता पूरी तरह खत्म नहीं हो जाती। चलते-फिरते समय लोगों के संपर्क में रहने के लिए मोबाइल फोन की उपयोगिता में कोई संदेह नहीं है लेकिन जब आप इत्मीनान से कहीं बैठे हों-दफ्तर या घर पर-तो टेबल पर पड़े पारंपरिक फोन के इस्तेमाल में ज्यादा सुकून और सुविधा महसूस होती है। लेकिन दो अलग-अलग तरह के फोन रखने की अपनी दुविधाएं हैं। क्या ऐसा नहीं हो सकता कि आपका मोबाइल फोन ही जरूरत पड़ने पर लैंडलाइन फोन के रूप में भी इस्तेमाल हो जाए?

आइफ्यूजन नामक गैजेट ने यही अकल्पनीय कार्य संभव कर दिखाया है। यह एपल आइफोन के लिए विकसित किया गया एक एकीकृत डॉकिंग स्टेशन है जिसमें आइफोन की ब्लूटूथ कनेक्टिविटी का इस्तेमाल करते हुए उसे एक नया ही रूप दे दिया गया है-लैंडलाइन फोन का। चूंकि ब्लूटूथ एपल के साथ-साथ दूसरी कंपनियों और दूसरे ऑपरेटिंग सिस्टमों से लैस स्मार्टफोन्स में भी मौजूद है इसलिए यह मानकर चलना चाहिए कि जल्दी ही ऐसे डॉकिंग स्टेशन दूसरे मोबाइल फोनों के लिए भी उपलब्ध होंगे।

आइफ्यूजन पारंपरिक फोन का ही आकर्षक और आधुनिक स्वरूप है। इसमें एक चोगा (हैंडसेट) और अच्छी किस्म का फुल ड्यूप्लेक्स स्पीकर फोन तो है ही, एक मजबूत और एडजस्ट किया जा सकने वाला स्टैंड तथा मोबाइल फोन की ही तरह कुछ आकर्षक बटन मौजूद हैं। दाईं ओर फोन को रखने के लिए एक खांचा बना हुआ है, जहां आपका आइफोन एकदम फिट बैठ जाता है। यह आइफोन पर आने वाले 3जी, 3जीएस और 4जी कॉल्स को लेने में सक्षम है। आप चाहें तो अपने आइफोन पर नंबर मिलाकर आइफ्यूजन के हैंडसेट के माध्यम से बात कर सकते हैं और चाहें तो उसके दमदार स्पीकर फोन के जरिए।

आइफ्यूजन की खूबियां यहीं खत्म नहीं हो जातीं। इसमें एपल आइफोन के बहुत सारे एक्सेसरीज की विशेषताओं को भी समाहित कर लिया गया है। इस पर रखे-रखे ही आइफोन की बैटरी अपने आप चार्ज होती रहती है। जब आप फोन पर बात कर रहे हों तब भी। यूएसबी केबल के जरिए डेटा सिंक्रोनाइजेशन और ट्रांसफर और ब्लूटूथ स्ट्रीमिंग भी मौजूद है। आप चाहें तो आइफोन में रखे संगीत को स्पीकरफोन पर तेज और स्पष्ट आवाज में सुन सकते हैं। और इतना ही नहीं, अगर आप किसी शैक्षणिक संस्थान या कारोबारी संस्थान में काम करते हैं तो आइफ्यूजन को संस्थान के ईपीएबीएक्स सिस्टम (बोर्ड) के साथ भी एकीकृत कर सकते हैं, यानी आइफोन पर आने वाले कॉल्स को दफ्तर के दूसरे टेलीफोन पर भी डाइवर्ट करना संभव है।

This post has already been read 13402 times!

Sharing this

Related posts