घर के परदों की देखभाल भी है बहुत जरूरी

परदों को साफ रखना आसान काम नहीं है। देखने में आता है कि बच्चे परदे से कुछ न कुछ पोंछते रहते हैं या फिर उसे पकड़ कर झूलने ही लग जाते हैं जिससे परदों को नुकसान होता है। परदे चूंकि आपके घर की अंदरूनी सज्जा की रौनक बढ़ाते हैं इसलिए इनकी देखभाल की ओर भी ध्यान दिया जाना जरूरी है। स्वास्थ्य के लिहाज से भी, क्योंकि उनमें धूल और कीटाणु जमा होने की आशंका बनी रहती है।

परदा लगाते समय ध्यान रखें कि चाहे वह किसी भी कपड़े का बनवाएं लेकिन उस पर लाइनिंग अवश्य लगवाएं। लाइनिंग से परदे की उम्र बढ़ जाती है। आजकल लाइनिंग भी कई तरह की आ गयी हैं। अधिक मांग सूती और टेरीकॉट की लाइनिंग की है। टेरीकॉट की सफेद रंग की लाइनिंग ज्यादा टिकाऊ मानी जाती है।

सूती और सिल्क के परदे अकसर धोने के बाद सिकुड़ जाते हैं। इन्हें सिलवाने से पहले धो लेना चाहिए। अगर पहले से धोना नहीं चाहते तो अंदर की तरफ दबाव देकर परदा लंबा सिलवाएं।

परदा टांगने के लिए प्लास्टिक या स्टेनलेस स्टील के हुक लगाएं। लोहे के हुक लगाने से परदे पर जंग के दाग लग जाते हैं। पंद्रह−बीस दिन में एक बार परदे वैक्यूम क्लीनर से साफ कर दें। धोने से पहले परदे के हुक अवश्य निकाल दें।

यदि परदा कहीं से फट गया है या उधड़ गया है तो उस हिस्से को सिलाई या रफू कर लें। धोने में यह और फट सकता है। परदे धोने के लिए तैयार किए गए घोल में दो−तीन घंटे भिगो कर रखें। तीन बड़े परदों के लिए आधा किलो सोड़ा, एक लीटर टीपॉल और थोड़ा सा अमोनिया ठीक है।

परदे धोने से पहले किनारे से उसके एक छोटे से हिस्से को धोकर देखें कि कहीं उसमें सेे रंग तो नहीं निकलता। रंग निकलने पर घोल में सिरका अवश्य डालें। अगर परदे पर चिकनाई के दाग हैं तो धोने से पहले दाग वाले हिस्से पर थोड़ा सा अमाइल एसिड़ लगाएं और तुरंत साबुन से धो दें। फिर घोल में डालें। आइसक्रीम के दाग भी इसी घोल से साफ हो जाते हैं। परदे धोते समय पानी में अच्छी तरह खंगालें। सही ढंग से खंगाला नहीं जाए तो परदे का रंग एक दूसरे पर चढ़ सकता है।

यदि परदों पर होली का रंग गिर गया है तो इसे तेजाब से ब्लीच करना पड़ता है। बेहतर यही है कि इसे ड्राई क्लीनर के पास ले जाएं। परदे सुखाने के बाद उनमें क्रीज बैठाने के लिए कॉटन और सिल्क के परदे प्रेस अवश्य करवाएं। पोलिएस्टर के परदे बिना प्रेस किए भी टांग सकती हैं। शनील के परदों को तो प्रेस करने का सवाल ही नहीं उठता।

टेरीलोन के परदों की चमक बरकरार रखने के लिए उन्हें पांच लीटर पानी, एक चौथाई कप जिक्सो ब्लीच और एक छोटा चम्मच विनेगर के घोल में पांच मिनट तक डुबो कर रखें। उसके बाद अच्छी तरह धो लें। लंबे समय तक नहीं धोने पर परदों की लाइनिंग ही गल कर खत्म हो जाती है।

This post has already been read 6957 times!

Sharing this

Related posts