काठमांडू प्लेन क्रैशः पायलट के धूम्रपान करने के कारण हुआ था हादसा

काठमांडू। साल 2018 में काठमांडू के त्रिभुवन इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर हुई विमान दुर्घटना विमान के कॉकपिट में पायलट के धूम्रपान करने के कारण हुई थी। मामले में जांच एजेंसी की रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है। जांच एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार दुर्घटनाग्रस्त विमान के कॉकपिट वॉइस रिकॉर्डर से यह खुलासा हुआ है कि यूएस बांग्ला एयरलाइंस की नीति नो स्मोकिंग की रही है, इसके बावजूद मुख्य पायलट ने धूम्रपान किया जिसके बाद यह दुर्घटना हुई। रिकॉडर के डेटा से यह पता चला है कि उस वक्त टर्मिनल, क्रू और एयर ट्रैफिक कंट्रोलर के बीच कम्यूनिकेशन में दिक्कत आई थी। रिपोर्ट में साफ है कि अगर लापरवाही न बरती गई होती, तो शायद यह हादसा होने से रोका जा सकता था। उल्लेखनीय है कि 12 मार्च 2018 में काठमांडू के त्रिभूवन इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर विमान दुर्घटनाग्रस्त हो जाने से 51 लोगों की मौत हो गई थी। हादसे के बाद पोस्टमार्टम की रिपोर्ट में खुलासा किया गया है कि ज्यादातर लोगों की मौत सिर पर गहरी चोट लगने के कारण हुई थी। जबकि कुछ लोगों का मौत जलकर मरने के कारण हो गई थी।

This post has already been read 7842 times!

Sharing this

Related posts