भाजपा के साथ मिलने वालों की सदस्यता रद्द होगी : सिद्धरामैया

बेंगलुरु। कांग्रेस पार्टी ने दलबदल विरोधी कानून के प्रावधानों के तहत पार्टी के 10 बागी विधायकों को अयोग्य ठहराने की याचिका दायर की है। कांग्रेस भाजपा के साथ मिलने वालों की सदस्यता पार्टी विरोधी गतिविधि के लिए रद्द करवाएगी। हम स्पीकर को इनकी सदस्यता रद्द करने के लिए कहेंगे। 
मंगलवार को यहां हुई विधायक दल की बैठक में इस संबंध में फैसला किया गया। मुंबई में 10 बागियों के अलावा आठ और विधायक बैठक में शामिल नहीं हुए। सीएलपी नेता सिद्धरामैया ने दावा किया कि उनमें से सात ने अनुपस्थित रहने की अनुमति ली। कांग्रेस के बागी विधायकों के इस्तीफे स्वैच्छिक और वास्तविक नहीं थे और वह भाजपा के इशारे पर दिए गए हैं, इसलिए स्पीकर को उनके खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए।
उन्होंने कहा कि भाजपा ने जेडीएस-कांग्रेस सरकार को अस्थिर करने के लिए पांच बार कोशिश की और यह छठा प्रयास है। सिद्धरामैया ने कहा कि मैंने उनसे वापस आने और अपना इस्तीफा वापस लेने का अनुरोध किया है। राज्य में गठबंधन सरकार पर अनिश्चितता के बादल छाए रहने के कारण कांग्रेस ने आज सुबह विधानमंडल दल (सीएलपी) की बैठक बुलाई थी।
यह सरकार संविधान के प्रावधानों के अनुसार चुनी गई है। हमारे कुछ विधायक भाजपा के जाल में फंस गए हैं। कानून स्पष्ट रूप से कहता है कि जो किसी भी राजनीतिक दल से इस्तीफा देगा, उस पार्टी के प्रतीक पर चुने जाने के बाद उसे अयोग्य घोषित किया जाएगा। यह लोकतंत्र और लोकतांत्रिक व्यवस्था के खिलाफ है। हमारे 21 मंत्रियों ने कल इस्तीफा दिया, जिनमें उपमुख्यमंत्री भी शामिल थे। हमने 20 महीने बाद मंत्रिमंडल में फेरबदल करने का फैसला किया था। 

This post has already been read 7539 times!

Sharing this

Related posts