शृंखला में बराबरी के इरादे से उतरेगी भारतीय टीम

ऑकलैंड ।  भारतीय क्रिकेट टीम न्यूजीलैंड के खिलाफ शुक्रवार को तीन मैचों की टी-20 शृंखला के दूसरे मैच में बराबरी के इरादे से उतरेगी। भारतीय टीम को पहले मैच में 80 रनों की बड़ी हार का सामना करना पड़ा था और अब शृंखला में बने रहने के लिए भारतीय टीम को दूसरे मैच में हर हाल में जीत दर्ज करना होगा।पहमें भारतीय टीम की बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों ही औसत दर्जे के थे। पहले मैच में भारत ने तीन हरफनमौला खिलाड़ी सहित कुल आठ बल्लेबाजों को मैदान पर उतारा  था लेकिन कोई भी बल्लेबाज विकेट पर टिक नहीं सका था। कप्तान, शिखर धवन, ऋषभ पंत का बल्ला पूरी तरह से खामोश रहा था। इसके अलावा भारत का गेंदबाजी आक्रमण भी पूरी तरह से विफल रहा था। अनुभवी भुवनेश्वर कुमार, खलील अहमद, हार्दिक पांड्या, विजय शंकर, क्रुनाल पांड्या और युजवेंद्र चहल की किवी बल्लेबाजों खासकर टिम सेइफर्ट ने जमकर धुनाई की थी और खेल के छोटे प्रारूप में अपना सर्वोच्च स्कोर बनाया था।
रोहित टीम में बदलाव कर सकते हैं और कुलदीप यादव को अंतिम एकादश में मौका दे सकते हैं। वहीं खलील अहमद के स्थान पर मोहम्मद सिराज या सिद्धार्थ कौल को मौका मिल सकता है। पहले मैच में भारत की फील्डिंग भी अच्छी नहीं रही थी। टीम के खिलाड़ियों ने अहम समय पर कुछ अहम कैच छोड़े थे, जिसका खामियाजा टीम को भुगतना पड़ा था। टीम प्रबंधन चाहेगा कि भारत अगले मुकाबले में फील्डिंग को और बेहतर करे।
पहले मैच में किवी टीम के लिए सब कुछ अच्छा रहा था। उसकी बल्लेबाजी भी चली थी तो गेंदबाजों ने भी शानदार प्रदर्शन किया था। सेइफर्ट ने पहले मैच में 43 गेंदों पर 84 रनों की पारी खेली थी। एक बार फिर वह भारतीय गेंदबाजों के लिए सिरदर्द साबित हो सकते हैं। कोलिन मनुरो टी-20 के खतरनाक बल्लेबाज हैं। उन्होंने पहले मैच में 34 रनों की तेज तर्रार पारी खेली थी। मुनरो का बल्ला भी भारत के लिए चिंता का सबब है। इन दोनों के अलावा केन विलियम्सन और स्कॉट कुगेलेजिन ने भी तेजी से रन बटोरे थे। अनुभवी रॉस टेलर का बल्ला जरूर खामोश रहा था। गेंदबाजों की बात की जाए तो टिम साउदी, लॉकी फर्ग्यूसन, ईश सोढ़ी और मिशेल सैंटनर सभी ने शानदार गेंदबाजी करते हुए भारत को बड़ा स्कोर नहीं बनाने दिया था।

 

This post has already been read 8530 times!

Sharing this

Related posts