हरिद्वार कुंभ में पहला शाही स्नान जारी, 24 लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं ने किया स्नान

हरिद्वार : धर्मनगरी हरिद्वार में आज महाशिवरात्रि पर्व पर कुंभ का पहला शाही स्नान जारी है। भोर से ही लाखों की संख्या में श्रद्धालु मां गंगा की निर्मल एवं पवित्र धारा में आस्था की डुबकी लगा रहे हैं। मेला प्रशासन ने सुबह 10 बजे तक 24 लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं द्वारा पवित्र गंगा में स्नान करने का दावा किया है।
सुबह 9 बजे से हर की पैड़ी को अखाड़ों के साधुओं के स्नान के लिए आरक्षित कर दिया गया है। 12 बजे तक जूना, अग्नि ,आवाहन व किन्नर अखाड़ा के संत स्नान कर चुके हैं। स्नान के लिए जा रहे साधुु संतों को  देखने व उनका आशीर्वाद लेने के लिए मार्ग के दोनों ओर श्रद्धालुओं की भीड़ इकट्ठा है।                  

बहुत समय बाद एक बार फिर आज धर्मनगरी नगरी हरिद्वार में सनातन परंपरा के वो रंग दिख रहे हैं, जिसका काफी समय से लोगों को इंतजार था। देश के विभिन्न हिस्सों से श्रद्धालु यंहा पहुंचे हैं। कई श्रद्धालु ऐसे भी हैं, जो हर की पैड़ी तक नही पहुंच पा रहे हैं। भीड़ बहुत है, इसलिए हर की पैड़ी सहित हरिद्वार के दर्जनों घाटों पर श्रद्धालु पवित्र स्नान कर रहे हैं ।
कोविड नियम का हो पालन इस स्नान को लेकर कुंभ मेला प्रशासन लगातार लोगों को शारीरिक दूरी के पालन की हिदायत दे रहा है। बॉर्डर पर सभी की मेडिकल चेकअप किया जा रहा है। कोविड के लिए जारी किए गए मानकों का पालन करने की लगातार हिदायत दी जा रही है लेकिन आस्था का जो सैलाब हर की पैड़ी व हरिद्वार में देखने को मिल रहा है, उसे देख सभी के चेहरे खिल रहे हैं। 
सुरक्षा व्यवस्था चाकचौबंदहरिद्वार नगरी इस वक्त पूरी तौर पर छावनी बन चुका है। नगर के हर पॉइंट्स पर सुरक्षा व्यवस्था बेहद ही कड़ी नजर आ रही है। आईटीबीपी के जवानों के साथ ही सभी एजेंसियां चप्पे चप्पे पर नजर रख रही हैं। जल पुलिस, डॉग स्क्वाड के साथ ही क्यूआरटी की टीम हर पॉइंट्स पर मुस्तैद है।
श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए सुबह नौ बजे से पहले ही हर की पैड़ी को ख़ाली करा लिया गया। साथ ही हर की पैड़ी क्षेत्र में श्रद्धालुओं के प्रवेश पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगा दिया गया है। यह प्रतिबंध आज होने वाले अखाड़ों के शाही स्नान तक जारी रहेगा। आज सभी सातों संन्यासी अखाड़े हर की पैड़ी पर शाही स्नान करेंगे। यह स्नान सुबह 11:00 बजे से लेकर शाम 6:00 बजे तक जारी रहेगा।

This post has already been read 2677 times!

Sharing this

Related posts