‘कपल चैलेंज’ के बहाने निजता में घुसपैठ तो नहीं?

डॉ. रमेश ठाकुर फेसबुक ने एकबार फिर ‘कपल चैलेंज’ का टास्क देकर युवाओं को उलझा रखा है। फेसबुक इस्तेमाल करने वाले ग्राहक पत्नी, महिला मित्रों की तस्वीरें पोस्ट कर रहे हैं। इस मिशन में उम्रदराज लोगों की संख्या कम है, पर युवाओं का उत्साह देखते ही बन रहा है। समय-समय पर फेसबुक द्वारा दिए जाने वाले चैलेंज रूपी टास्कों पर कुछ संदेह होने लगा है कि इसके पीछे कोई साजिश तो नहीं? जबकि पत्नी, बच्चों और पारिवारिक लोगों की तस्वीरें निजी सामग्री मानी जाती है। एक जमाना था, जब शादी-ब्याह…

Read More

यूपीः दुष्कर्म पर पोस्टर की नकेल

सियाराम पांडेय ‘शांत’उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एंटी रोमियो स्क्वॉयड की समीक्षा के दौरान राज्य में ‘ऑपरेशन दुराचारी’ चलाने की बात कही है। इसके तहत महिलाओं और बच्चियों से दुष्कर्म और छेड़छाड़ करने वालों के पोस्टर चौक-चौराहों पर लगाए जाएंगे। पोस्टर में दुष्कर्मियों और मनचलों के मददगारों के नामों का भी खुलासा होगा। महिलाओं के लिए इससे अच्छी खबर भला और क्या हो सकती है? अगर यह अभियान अमल में आता है और इसका हश्र पुराने अभियानों जैसा नहीं होता है तो इससे न केवल महिलाओं और बच्चियों…

Read More

रफाल-सौदे में लचक ?

डॉ. वेदप्रताप वैदिक भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक ने अपनी ताजा रपट में गंभीर टिप्पणियां कर दी हैं, जो सरकार के लिए चिंता का विषय होना चाहिए। हमलोग बहुत खुश थे कि सरकार ने रफाल विमानों का सौदा इतने अच्छे ढंग से किया है कि ये लड़ाकू विमान भारत पहुंच भी चुके हैं और उनके प्रदर्शन से शत्रुओं को उचित संदेश भी चला गया है। लेकिन भा.नि.म. (सीएजी) की रपट ने जनता के उत्साह पर प्रश्नचिन्ह लगा दिया है।उन्होंने पूछा है कि फ्रांसीसी कंपनी दस्साॅल्ट एविऐशन ने जब 26…

Read More

संपादकों के संपादक दीनदयाल उपाध्याय

दीनदयाल उपाध्याय जी के जन्मदिवस 25 सितम्बर पर विशेषडॉ. प्रमोद कुमारदीनदयाल उपाध्याय भारत की ऐसी शख्सियत थे जो स्वयं कभी किसी समाचार पत्र-पत्रिका के औपचारिक संपादक अथवा संवाददाता नहीं रहे, कभी किसी समाचार पत्र के संपादक के रूप में उनका नाम प्रकाशित नहीं हुआ, कभी किसी कार्यालय में उनके लिए कुर्सी नहीं लगी, पत्रकारिता के किसी विद्यालय से उन्होंने कोई डिग्री/डिप्लोमा नहीं लिया, किसी समाचार पत्र या पत्रिका के प्रतिनिधि के रूप में उन्होंने कभी सरकारी मान्यता नहीं ली, कभी किसी पत्र से लेखन का कोई पारिश्रमिक नहीं लिया, परन्तु…

Read More

अपने नाम और उपनाम कैसे रखें ?

डॉ. वेदप्रताप वैदिककिसी देश का कोई नागरिक अपना या अपने बच्चों का नाम क्या रखे, इसपर तरह-तरह की पाबंदियां कई देशों में हैं। सउदी अरब ने तो ऐसे 51 नामों की सूची जारी कर रखी है, जिन्हें उसका कोई नागरिक नहीं रख सकता। वह सुन्नी राष्ट्र है। इसीलिए कई शिया नामों पर वहां प्रतिबंध है। लातीनी अमेरिका के कुछ राष्ट्र ऐसे हैं, जिनमें आप अपनी बेटी का नाम मरियम (ईसा मसीह की मां) तो रख सकते हैं लेकिन बेटे का नाम जिसस (मसीह) नहीं रख सकते। तुर्की में कुर्द लोग…

Read More

मोदी जी की कर्तव्यपरायणता महात्मा गांधी के निकट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर विशेषप्रभात झाविश्व के सबसे अधिक जनसमर्थन वाले प्रधानमंत्री, महात्मा गांधी और सरदार पटेल की भूमि गुजरात के लाल, नरेंद्र मोदी का दर्शन और उनकी कर्तव्यपरायणता महात्मा गांधी के निकट है। गांधी जी द्वारा प्रतिपादित मानवता, समानता और समावेशी विकास के सिद्धांतों पर चलकर उन्होंने भारत के सबसे जनप्रिय प्रधानमंत्री होने का गौरव प्राप्त किया। जनसेवा और राष्ट्र धर्म का उन्होंने अनुपालन कर जो आदर्श स्थापित किया है, एक सुनहरे भारत का निर्माण तो करेगा ही विश्व के लिए कल्याणकारी होगा।नव भारत और आत्मनिर्भर भारत…

Read More

लालच के पहाड़ से दबी कोरोना जांच

सियाराम पांडेय ‘शांत’निजी अस्पतालों और पैथोलॉजी प्रयोगशालाओं ने 1600 रुपये में कोविड-19 की जांच न करने की चेतावनी दी है और सरकार से इस दर में और इजाफा किए जाने की मांग की है। उत्तर प्रदेश सरकार ने निजी अस्पतालों को निर्देश दिया है कि वह कोविड-19 की जांच के लिए 1600 रुपये से अधिक न लें। निजी चिकित्सालय और प्रयोगशाला संचालक इससे पहले कोविड जांच कराने वालों से एकबार में 2500 रुपये लेते रहे हैं।सवाल यह है कि जब एक हजार या उससे कम कीमत की आईआईटी दिल्ली द्वारा…

Read More

लोकभाषा से राजभाषा बनी हिन्दी

हिन्दी दिवस 14 सितम्बर पर विशेष डॉ. रामकिशोर उपाध्याय हिन्दी देश में सर्वाधिक बोली और समझी जाने वाली भाषा है। भारत में राजनीतिक सत्ता परिवर्तित होने के साथ-साथ राज-काज की भाषा तो परिवर्तित होती रहीं किन्तु साधु-संतों, भक्तों और कवियों के हृदय से यह स्रोतस्विनी निरंरत निर्झारित और निःसृत होती रही है। यहाँ के जनमानस की भाषा संस्कृत, पालि, प्राकृत से होती हुई आज की हिन्दी तक एक सुदीर्घ परंपरा में चलती चली आ रही है। मुगलकाल में जब शासकों की भाषा फ़ारसी और धर्म इस्लाम हो गया तब अहिन्दी…

Read More

लोक की अवधारणा

हृदयनारायण दीक्षितलोक की व्याप्ति बड़ी है। सामान्यतया प्रत्यक्ष विश्व को लोक कहते हैं। लेकिन भारतीय परंपरा में कई लोकों की चर्चा है। ऋग्वेद के पुरुष सूक्त में ‘अमृत‘ लोक का उल्लेख है। बताते हैं, ‘‘प्रत्यक्ष विश्व उस पुरुष की महिमा है। पुरुष इससे बड़ा है। विश्व उसका एक पाद चरण है। तीन भाग अमृत लोक में हैं।‘‘ लोक का विचार वैदिककाल से प्राचीन है। इसी परंपरा में स्वर्गलोक व मृत्युलोक की भी चर्चा होती है। यजुर्वेद के अंतिम अध्याय में कहा गया है ‘‘आत्मविरोधी लोग अंधकार आच्छादित लोकों में बार-बार…

Read More

राफेल वायुसेना में तैनात

प्रमोद भार्गव आखिरकार दुश्मनों का पसीना छुड़ा देने वाले पांच फ्रांसीसी फाइटर जेट राफेल भारतीय वायुसेना का हिस्सा बन गए। चीन से तनाव के चलते राफेल का सेना में शामिल होना सैनिकों का मनोबल बढ़ाएगा। ये लड़ाकू विमान लद्दाख की ऊंची पहाड़ियों की छोटी जगह पर भी उतर सकते हैं। इसे समुद्र में चलते हुए युद्धपोत पर भी उतारा जा सकता है। राफेल को अंबाला के एयरबेस पर इसलिए तैनात किया गया है, क्योंकि यहां से चीन और पाकिस्तान की सीमाएं अत्यंत नजदीक हैं।इन विमानों को आसमान से युद्ध के…

Read More