भाजपा, नया संसदीय मॉडल और संघ की विचारशक्ति

भाजपा स्थापना दिवस (06 अप्रैल) पर विशेषडॉ. अजय खेमरिया41 वर्ष आयु हो गई है भारतीय जनता पार्टी की। मुंबई के पहले पार्टी अधिवेशन में अटल जी ने अध्यक्ष के रूप में कहा था कि “अंधियारा छंटेगा, सूरज निकलेगा, कमल खिलेगा।” आज भारत की संसदीय राजनीति में चारों तरफ कमल खिल रहा है। कभी बामन-बनियों और बाजार वालों (मतलब शहरी इलाके) की पार्टी रही भाजपा आज अखिल भारतीय प्रभाव के चरम पर है। पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों के शोर में बीजेपी का स्थापना दिवस कुछ अहम सवालों के साथ विमर्श…

Read More

पुनर्जन्म का आधार अभिलाषा है

हृदयनारायण दीक्षित जीवन सरल है, तरल है और विरल भी। संसार का प्रत्येक व्यक्ति अनेक अभिलाषाओं से भरा पूरा है। अभिलाषाएं कभी पूरी नहीं होती। अनंत है अभिलाषाएं। एक पूरी हुई दूसरी सामने है। मेरे मन में जीवन को समझने की अभिलाषा रही है। यह कठिन कार्य है। लेकिन स्वयं को पूरा समझने में जीवन की समझ अपने आप आ जाती है। स्वयं को समझने की अभिलाषा जीवन को वस्तुतः जीवन को समझने के लिए पर्याप्त है।भारतीय चिंतन में अभिलाषाओं को पूरा करने पर जोर नहीं है। सभी अभिलाषाएं पूरी…

Read More

धरती को बचाने इस हाथ दे उस हाथ ले

ऋतुपर्ण दवे दुनिया भर में प्रकृति और पर्यावरण को लेकर जितनी चिन्ता वैश्विक संगठनों की बड़ी-बड़ी बैठकों में दिखती है, उतनी धरातल पर कभी उतरती दिखी नहीं। इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि सामूहिक चिन्तन और हर एक की चिन्ता से जागरुकता बढ़ती है। बिगड़ते पर्यावरण, बढ़ते प्रदूषण को लेकर दुनिया भर में जहाँ-तहाँ भारी-भरकम बैठकों का दौर चलता रहता है परन्तु वहाँ जुटे हुक्मरानों और अफसरानों की मौजूदगी के मुकाबले कितना कुछ हासिल हुआ या होता है, यह सामने है। सच तो यह है कि दुनिया…

Read More

पॉलिथीन से बायो डीजल बनायें-पर्यावरण बचायें

आर.एन. गुप्ता देश के गांव-गलियों और शहरों में पॉलिथीन कचरे से नालियां, नाले और नदियां अवरुद्व हो रही हैं। इतना ही नहीं, ताजा अध्ययन बता रहे हैं कि जब से प्लास्टिक कचरे का उपयोग भूमि भराव में हो रहा हैं, समुद्र तेजी से प्रदूषित होकर जलवायु परिवर्तन के लिये नया सबक बन गये हैं। मछलियां पॉलिथीन खा रही हैं, उनको पकड़कर इंसान दोबारा उनको खा रहे हैं। अर्थात पॉलिथीन वहीं वापस आ रहा है। शहरों में गाय-भैंसे पॉलिथीन थैलियां खाकर बीमार हो रही हैं, उनका प्रदूषित दूध इंसानों को भी…

Read More

भारत कहां तक बर्दाश्त करे शरणार्थी

म्यांमार संकट से उपजे सवाल डॉ. प्रभात ओझा म्यांमार के नागरिक मुसीबत में हैं। लोकतंत्र के लिए प्रदर्शन कर रहे लोग मौत के मुंह में समा रहे हैं। जो हालात से डरकर भागना चाहते हैं, उन्हें पड़ोसी देश अपने यहां आने नहीं देना चाहते। चुनी हुई सरकार के फरवरी में तख्ता-पलट के बाद 29 मार्च तक सेना की गोलियों से म्यांमार के 400 से अधिक लोग मारे जा चुके हैं। अकले 28 मार्च को जब म्यांमार की सेना अपना वार्षिक परेड कर रही थी, लोकतंत्र के लिए सड़कों पर उतरे…

Read More

होली के विविध रंगः कहीं चलती लाठियां, कहीं पत्थरों की बरसात

होली के त्योहार (29 मार्च) पर विशेषयोगेश कुमार गोयल जन चेतना का जागरण पर्व होली हमें परस्पर मेल-जोल बढ़ाने और आपसी वैर भाव भुलाने की प्रेरणा देता है। रंगों के इस पर्व के प्रति युवा वर्ग व बच्चों के साथ-साथ बड़ों में भी अपार उत्साह देखा जाता है। वैसे तो यह त्यौहार देश में होलिका दहन व रंगों के त्यौहार के रूप में ही जाना जाता है लेकिन भारत के विभिन्न भागों में इस पर्व को मनाने के अलग-अलग और बड़े विचित्र तौर-तरीके देखने को मिलते हैं। डालते हैं देशभर…

Read More

आखिर मेरे मोबाइल नंबर कोचिंग वालों को दिए किसने?

कौशल मूंदड़ा‘‘सर क्या आप लक्ष्यराज बोल रहे हैं…जी नहीं… तो उनके भाई या फादर बोल रहे हैं … आप बताइये आपको काम क्या है … जी मैं ….. इंस्टीट्यूट से बोल रहा हूं…. हमें आपके बच्चे के एजुकेशन से रिलेटेड बात करनी है ….वह तो ठीक है लेकिन आपको मेरे नंबर कहां से मिले … जी आपके बच्चे ने हमारी वेबसाइट की विजिट की होगी तो आपका डेटा हमारे पास आ जाता है।ऐसा कैसे, एक क्लिक में मेरा डेटा आपके पास आ गया …. यह किस अधिकार से आप प्राप्त कर रहे हैं….।साॅरी सर,…

Read More

केन-बेतवा जोड़ योजना पर सहमति बड़ी उपलब्धि

सियाराम पांडेय ‘शांत’ केन-बेतवा नदी जोड़ो परियोजना के क्रियान्वयन के करार पर केंद्र सरकार, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश सरकार ने अपने हस्ताक्षर कर दिए। केन नदी का पानी बेतवा तक भेजने के लिए दौधन बांध बनाया जाएगा जो 22 किलोमीटर लंबी नहर को बेतवा से जोड़ेगा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि वर्षा जल के संरक्षण के साथ ही देश में नदी जल के प्रबंधन पर भी दशकों से चर्चा होती रही है, लेकिन अब देश को पानी के संकट से बचाने के लिए इस दिशा में तेजी…

Read More

टीबी यानी तपेदिक रोग कितना खतरनाक

विश्व टीबी दिवस (24 मार्च) पर विशेषरंजना मिश्रा विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार हर वर्ष लगभग 4 से 5 लाख लोग और हर रोज 12 सौ से 13 सौ लोग टीबी से मर रहे हैं। टीबी विश्व भर में मृत्यु के बड़े कारणों में से एक है। टीबी बैक्टीरिया से होने वाली बीमारी है, टीबी फैलाने वाले बैक्टीरिया का नाम है “माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरकुलोसिस”। टीबी मुख्यतः फेफड़ों में होती है, जिसे पल्मोनरी टीबी कहते हैं, किंतु यदि यह शरीर के दूसरे हिस्से को प्रभावित करती है तो यह एक्स्ट्रा पल्मोनरी…

Read More

फुदकती गौरैया कब आएगी हमारे आंगन ?

विश्व गौरैया दिवस (20 मार्च) पर विशेषयोगेश कुमार गोयलघर-आंगन में या खिड़की-दरवाजे पर बेधड़क फुदकने और चहकने वाली गौरैया आजकल हमें अपने आसपास नजर नहीं आती। छोटे आकार के इस खूबसूरत से पक्षी का बसेरा हमारे घरों तथा आसपास ही पेड़-पौधों पर हुआ करता था लेकिन अब यह पक्षी विलुप्ति के कगार पर है। इसकी आवाज सुनने को कान तरस जाते हैं। स्वयं को परिस्थितियों के अनुकूल बना लेने वाली यह नन्हीं सी प्यारी सी चिड़िया करीब दो दशक पहले तक हर कहीं झुंड में उड़ती देखी जाती थी लेकिन…

Read More