सीटू, किसान सभा और बेफी ने रेलवे स्टेशनों पर किया प्रदर्शन

रांची। सेंटर ऑफ इंडियन ट्रेड यूनियंस (सीटू), अखिल भारतीय किसान सभा और बैंक इम्पलाईज फेडरेशन ऑफ इंडिया (बेफी) ने शुक्रवार को झारखंड के प्रमुख रेलवे स्टेशनों पर प्रदर्शन किया। इस दौरान रेलवे, बिजली सहित सार्वजनिक संस्थानों के निजीकरण और स्मार्ट मीटर लगाए जाने का विरोध हुआ।
इस प्रदर्शन के माध्यम से भारतीय रेल सहित तमाम सार्वजनिक उपक्रमों और सेवाओं का निजीकरण बंद करने, राष्ट्रीय मुद्रीकरण पाइपलाइन (एनएमपी) योजना वापस लेने और स्मार्ट मीटर लगाए जाने की योजना अविलंब वापस लेने की मांग की गई। साथ ही रेलवे के कारखानों आईसीएफ चैन्नई में वंदे भारत ट्रेन निर्माण करने के लिए प्राइवेट कम्पनी को ठेका देने की योजना रद्द करने, एचईसी को बचाने के लिए प्लांट का आधुनिकीकरण और कार्यशील पूंजी उपलब्ध कराने एवं एचईसी के अधिकारियों तथा मजदूरों का 20 माह का बकाया भुगतान करने की मांग की गयी।
रांची रेलवे स्टेशन पर प्रदर्शन को सीटू के प्रकाश विप्लव, अनिर्वान बोस, भवन सिंह, प्रतीक मिश्रा, बेफी के एमएल सिंह, कनक रंजन चौधरी, किसान सभा के विरेंद्र कुमार, सुखनाथ लोहरा, प्रफुल्ल लिंडा कर्मचारी महासंघ के नवीन चौधरी सहित विभिन्न ट्रेड यूनियन नेताओं ने संबोधित किया। सीटू राज्य मुख्यालय के अनुसार रांची के अलावा टाटा नगर, कोडरमा, धनबाद, बोकारो स्टील सीटी, जामताड़ा और पाकुड़ रेलवे स्टेशनों के समक्ष प्रदर्शन हुआ।

This post has already been read 2915 times!

Sharing this

Related posts