संसद की सुरक्षा में कमी पर मोदी ने कहा, ”यह घटना चिंताजनक है, मामले की गहराई में जाना जरूरी है.”

संसद की सुरक्षा में हुई चूक को लेकर राजनीति चरम पर है. विपक्ष लगातार मांग कर रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सदन में आएं और इस मुद्दे पर बयान दें. सुरक्षा की कमी पर खेद जताया है. उन्होंने कहा है कि इस मामले की जांच जरूरी है और साथ ही इस मामले की गहराई में जाना भी जरूरी है.
दरअसल, 13 दिसंबर को संसद पर हुए आतंकी हमले की बरसी पर दो लोगों ने सदन में घुसकर स्मोक बम से हमला कर दिया था. स्मोक बम की वजह से सदन में पीला धुआं फैल गया था. जिससे संसद सदस्यों की जान को भी ख़तरा हो गया था. हालांकि, पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए न सिर्फ घर में घुसे शख्स को बल्कि घर के बाहर मौजूद उसके दो साथियों को भी गिरफ्तार कर लिया. फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है और सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है.
अखबार को दिए इंटरव्यू में प्रधानमंत्री मोदी ने इस घटना को बेहद दुखद और चिंताजनक बताया. उन्होंने कहा है कि इस मामले पर बहस या विरोध करने की बजाय इसकी गहराई में जाने की जरूरत है. ऐसा करने से ही मामला सुलझेगा. संसद की सुरक्षा में कमी को लेकर विपक्ष लगातार केंद्र सरकार पर आरोप लगा रहा है. इन दिनों शीतकालीन सत्र भी चल रहा है, लेकिन सुरक्षा को लेकर विपक्ष के हंगामे के बीच सदन को कई बार स्थगित करना पड़ा है.
पीएम मोदी ने कहा कि संसद में जो कुछ हुआ उसकी गंभीरता को कम नहीं आंका जाना चाहिए. स्पीकर ओम बिरला इस मामले को गंभीरता से ले रहे हैं और सभी जरूरी कदम उठा रहे हैं. उन्होंने कहा कि एजेंसियां ​​भी मामले की सख्ती से जांच कर रही हैं. प्रधानमंत्री ने कहा कि इसके पीछे कौन से तत्व शामिल हैं, इसकी गहराई से जांच करना जरूरी है. हमें मिलकर इसका समाधान निकालना होगा.’ ऐसे विषय पर सभी को विरोध से बचना चाहिए।
दरअसल, 13 दिसंबर को जब देश संसद पर हुए आतंकी हमले की 22वीं बरसी मना रहा था, तभी दो लोग सदन में घुस आए. दो लोगों, मनोरंजन डी और सागर शर्मा के पास आगंतुक पास थे, जिससे उन्हें सदन की कार्यवाही देखने के लिए प्रवेश करने की अनुमति मिली। हालांकि, दोपहर एक बजे ये दोनों लोग दर्शक दीर्घा से कूदकर सीधे सदन में चले गए। इसके बाद उन्होंने अपने जूतों में छिपाकर रखे गए एक स्मोक बम का इस्तेमाल किया। जिससे घर में धुआं फैल गया।
जब सदन के अंदर ये सब हो रहा था तो नीलम आजाद और अमूल शिंदे नाम के दो लोगों ने संसद के बाहर धुंआदार मोमबत्तियां भी जलाईं और नारे लगाए. इसके बाद पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया. घर के अंदर से पकड़े गए लोगों को भी पुलिस के हवाले कर दिया गया। वहीं मास्टरमाइंड ललित झा जो यह सब अपने मोबाइल में रिकॉर्ड कर रहा था, मौके से भाग गया. हालांकि, कुछ दिन पहले उसने खुद को पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया था. इस मामले में सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है.

This post has already been read 3873 times!

Sharing this

Related posts