विल्स प्रीमियर लीग का विल्स ब्लास्टेर्स ने मैच जीतकर बना चैंपियन

रांची: विल्स क्लब ऑफ कांके के तत्वाधान में आईपीएल के तर्ज पर आयोजित क्रिकेट विल्स प्रीमियर लीग का फाइनल मैच प्रसिद्ध ऐतिहासिक मैदान कांके के वेटनरी कॉलेज मैदान में खेला गया। फाइनल मैच में मुख्य अतिथि के रूप में जेएमएम के जिला अध्यक्ष मुश्ताक आलम, ,हरीनाथ साहू, नेशनल जनरल सेक्रेटरी अरूप केवर्ता एवं विशिष्ट अतिथि के रूप में मोजिबूल रहमान, शिशिर उरांव, घनश्याम उरांव , रंजीत कैबरता, ,गुलजार अहमद, नेशर अहमद,फरहत हुसैन, नूर आलम,जिब्राइल अंसारी,हसन अंसारी ,एवं अन्य अतिथियों द्वारा फाइनल मैच का शुभारंभ किया गया।साथ ही साथ मैच का कॉमेंट्री मंजर आलम,आदिल असलम,नफीस आलम ने किया। विगत पांच वर्षो से आईपीएल के तर्ज में मैच कराते आ रही है। जिसमें झारखंड के हर जिले से खिलाड़ी शामिल होती है। जिसमे विल्स लिजेंड की टीम विजय रही, वही विल्स प्रीमियर लीग का फाइनल मैच में राँची के दो दिग्गज विल्स टाइगर्स एवं विल्स ब्लास्टेर्स के बीच खेला गया। फाइनल मैच में टॉस जीतकर विल्स ब्लास्टेर्स ने पहले गेंदबाजी पहले करने का विचार बनाया।जहां पहले बल्लेबाजी करते हुए टाइगर्स की टीम ने 10 ओवर में 20 रन ही बना सकी, टाइगर्स की टीम ने ब्लास्टेर्स को 10 ओवर में 21 रन लक्ष्य दिया। जिसको पीछा करते हुए ब्लास्टेर्स ने 2 ओवर में ही जीत हासिल कर ली। इस तरहा फाइनल मैच में विल्स ब्लास्टेर्स मैच जीतकर ट्रॉफी पर कब्जा जमाया। मैच के समाप्ति पर पहला पुरस्कार पच्चीस हजार एवं बड़ा ट्रॉफी, दूसरा पुरस्कार पंद्रह हजार एवं बड़ा ट्रॉफी वितरित किया गया।मैन ऑफ द मैच शोब्रोतों जन्तु को दिया गया।एवं सीरीज विल्स चुम्मी को बेस्ट फील्डर सैफ अली बेस्ट बैट्समेन तबारक को बेस्ट बॉलर का पुरस्कार बबलू को दिया गया। इसके अलावा अन्य पुरस्कार आयोजन समिति द्वारा दिया गया। अध्यक्ष वसीम अंसारी ने बताया कि बहुत सारे ऐसे खिलाड़ी होते जिसको कोई जानता नहीं है इस लीग मैच के जरिये नये खिलाड़ी उभर कर सामने आते है।और अपने अंदर छिपे प्रतिभा को सबके सामने लाया जाए। एवं टूर्नामेंट अध्यक्ष इमरान ने बताया की इस तरह का टूर्नामेंट आगे भी होता रहेगा और इस टूर्नामेंट को उचाई तक ले सके।विल्स प्रिमियर लीग कराने का मुख्य उद्देश यही है। इस टूर्नामेंट को सफल बनाने मे क्लब के सभी सदस्यो एवं पंचायत के जन प्रतिनिधियों का बहुत बड़ा योगदान रहा।

This post has already been read 929 times!

Sharing this

Related posts