वाड्रा ने ईडी की कार्रवाई को बताया शक्ति का दुरुपयोग

नई दिल्ली। बिजनेसमैन रॉबर्ट वाड्रा ने प्रवर्तन निदेशालय द्वारा उनकी संपत्ति अटैच किए जाने को जानबूझ कर निशाना बनाने और शक्ति का दुरुपयोग बताया है। वाड्रा ने फेसबुक पर किए एक पोस्ट में लिखा कि उनके पास छुपाने के लिए कुछ नहीं है और वह कानून से ऊपर भी नहीं है। वह 6 दिन प्रवर्तन निदेशालय के सामने प्रस्तुत हुए 8 से 12 घंटे प्रतिदिन उनसे पूछताछ की गई। खाने के दौरान भी उनसे पूछताछ की गई। बाथरूम जाते समय भी उन पर निगरानी रखी गई। वाड्रा ने कहा कि वह कानून का पूरी तरह से पालन कर रहे हैं और हर बार जांच में सहयोग दे रहे हैं। उनकी संपत्ति को जब्त किया जाना बताता है कि शक्ति का कैसे दुरुपयोग किया जा रहा है। यह बदला लेने की भावना से प्रेरित प्रयास है। उन्होंने आगे कहा कि जब सच सबके सामने आ जाएगा, उन्हें आशा है कि केवल एक माफी ही उनके लिए काफी होगी। वह न्याय पाने के लिए संघर्षरत रहेंगे। उल्लेखनीय है कि प्रवर्तन निदेशालय ने शुक्रवार को कोलायत(बीकानेर) जमीन घोटाला मामले में बिजनेसमैन रोबर्ट वाड्रा की कंपनी स्काईलाइट हॉस्पिटैलिटी और अन्य से जुड़ी 4.62 करोड़ की संपत्ति अटैच कर ली थी।

This post has already been read 7693 times!

Sharing this

Related posts