रक्षा मंत्री निर्मला बोलीं- कांग्रेस को आई सर्जिकल स्ट्राइक की याद, ये भी सेना का राजनीतिकरण

रक्षा मंत्री ने कहा, पाकिस्तान को विकास के लिए दूर दराज के जिन देशों से पैसा मिलता है, वो सब पिछले 10 साल से आतंकवाद में लग रहा है. इसे रुकवाने और पाकिस्तान पर इंटरनेशनल कम्युनिटी की निगरानी बढ़ाने के लिए भारत लगातार कोशिश करता रहेगा.

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण रविवार को लेह पहुंचीं. हवाई अड्डे के बाहर उनका पारंपरिक ढंग से स्वागत किया गया. पारंपरिक पहनावे में स्वागत करने पहुंचीं महिलाओं ने लोक संगीत की थाप पर रक्षा मंत्री का अभिवादन किया. लेह का पारंपरिक शॉल ओढ़ा कर उनका स्वागत किया गया. रक्षा मंत्री के साथ अरुणाचल के मुख्यमंत्री प्रेमा खांडू भी मौजूद थे. पिछले एक साल में निर्मला सीतारमण का यह चौथा दौरा है. इस दौरान उन्होंने ‘आजतक’ से खास बातचीत की.
बातचीत के दौरान उन्होंने कई सवालों के जवाब दिए. उनके कार्यकाल में हुए रक्षा सौदों के बारे में भी सवाल पूछा गया. बीजेपी और नरेंद्र मोदी सरकार पर सेना के राजनीतिकरण का आरोप लग रहा है. इसके जवाब में रक्षा मंत्री ने कहा, ‘बीजेपी कोई राजनीतिकरण नहीं कर रही. अब तक विपक्ष खासकर कांग्रेस सेना के राजनीतिकरण का आरोप लगा रही थी लेकिन अब वो भी कह रही है कि हमने भी सर्जिकल स्ट्राइक की है. अगर उन्हें इस मुद्दे का राजनीतिकरण नहीं करना है तो फिर क्यों बोल रहे हैं कि एक नहीं 6 सर्जिकल स्ट्राइक कांग्रेस न कराई थी. कोई नेता 6, कोई 11 और कोई 15 सर्जिकल स्ट्राइक की बात कर रहा है. अगर राजनीतिकरण नहीं करना है तो इस रेस में पड़ने की क्या जरूरत है.’

निर्मला सीतारमण ने कहा, ‘कांग्रेस आज यह कहने में संकोच कर रही है कि आतंकवाद के खिलाफ कठोर कार्रवाई हुई है, जो पाकिस्तान आतंकवाद फैला रहा है उसके खिलाफ मोदी सरकार ने कड़ा एक्शन लिया है. हम ये बात समझ रहे हैं कि आतंकियों के खिलाफ राजनीतिक दृढ़ इच्छाशक्ति से कार्रवाई की गई है.’
मसूद अजहर के सवाल पर रक्षा मंत्री ने कहा, ‘पाकिस्तान में कई आतंकी संगठन हैं. 70 संगठन ऐसे हैं जिनके खिलाफ पाकिस्तान में या विदेशों में कोई न कोई पाबंदी लगी है. इसके बावजूद पाकिस्तान आतंकियों को फैलाता रहा है. ऐसे में भारत को बड़ी कामयाबी (मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय घोषित करना) मिली है लेकिन इससे सबकुछ नहीं रुक जाएगा. पाकिस्तान को एफएटीएफ (फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स) के तहत ब्लैकलिस्ट करवाना है. पाकिस्तान को विकास के लिए दूर दराज के जिन देशों से पैसा मिलता है, वो सब पिछले 10 साल से आतंकवाद में लग रहा है. इसे रुकवाने और पाकिस्तान पर इंटरनेशनल कम्युनिटी की निगरानी बढ़ाने के लिए भारत लगातार कोशिश करता रहेगा.’
पाकिस्तान के खिलाफ भारत की आगे क्या कार्रवाई होगी, इसके बारे में रक्षा मंत्री ने कहा कि ‘हमारी नजर लगातार बनी रहेगी. उनके ऊपर लगातार दबाव बना रहेगा.’ राफेल सौदा और राहुल गांधी के आरोपों पर रक्षा मंत्री ने कहा कि ‘पिछले साल राफेल को बेबुनियाद मुद्दा बनाने की कोशिश शुरू की गई. मगर उनके आरोप झूठे हैं, बेबुनियाद हैं, ये बातें स्पष्ट होने पर भी वे इस पर कायम हैं क्योंकि पिछले 5 साल में रक्षा मंत्रालय बिना किसी दलाल के अपना काम संभालते आ रहा है, इसकी समझ उन्हें नहीं है.

This post has already been read 9581 times!

Sharing this

Related posts