मिशन गगन यान: ‘2040 तक चंद्रमा पर पहले भारतीय को भेजने का लक्ष्य’, पीएम मोदी का बयान

New Delhi: भारत अंतरिक्ष क्षेत्र में नई ऊंचाइयों को छू रहा है और नई तारीखें भी तय कर रहा है। चंद्रयान-3 की सफलता के बाद अब भारतीय वैज्ञानिकों ने अपना पूरा ध्यान ‘मिशन सूरज’ (आदित्य एल-1) और ‘मिशन गगनयान’ पर लगा दिया है। ‘मिशन गगन यान’ पर आज एक उच्च स्तरीय बैठक भी हुई जिसमें पीएम मोदी भी मौजूद रहे. उन्होंने ‘मिशन गगन यान’ की तैयारियों की समीक्षा की और वैज्ञानिकों से कहा कि भारत को 2040 तक चंद्रमा पर एक आदमी भेजने और 2035 तक एक अंतरिक्ष स्टेशन स्थापित करने का लक्ष्य रखना चाहिए। पीएम मोदी ने वैज्ञानिकों से नए लक्ष्यों के तहत ‘वीनस ऑर्बिटर मिशन’ और ‘मार्सलैंड लैंडर’ पर भी काम करने को कहा.

प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने आज जानकारी दी कि ‘मिशन गगन यान’ पर पीएम मोदी की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय बैठक हुई. इस बीच, अंतरिक्ष विभाग ने मिशन की एक व्यापक प्रस्तुति दी, जिसमें अब तक विकसित विभिन्न प्रौद्योगिकियां, जैसे मानव-रेटेड लॉन्च वाहन और सिस्टम क्षमताएं शामिल थीं। पीएमओ के अनुसार, लगभग 20 प्रमुख परीक्षणों की योजना बनाई गई है, जिसमें ह्यूमन रेटेड लॉन्च व्हीकल (HLVM-3) के तीन मानव रहित मिशन भी शामिल हैं। बैठक में मिशन की तैयारियों की समीक्षा की गई और इसे 2025 तक लॉन्च करने की पुष्टि की गई।

बैठक में, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने निर्देश दिया कि भारत को अब नए दीर्घकालिक लक्ष्यों पर काम करना चाहिए, जिसमें 2035 तक एक भारतीय अंतरिक्ष स्टेशन स्थापित करना और 2040 तक चंद्रमा पर एक आदमी भेजना शामिल है। भारत के अंतरिक्ष अन्वेषण प्रयासों के भविष्य पर एक बैठक के दौरान, पीएम मोदी ने भारतीय वैज्ञानिकों से एक ‘इंटरप्लेनेटरी मिशन’ की दिशा में काम करने का आग्रह किया, जिसमें एक ‘वीनस ऑर्बिटर मिशन’ और एक ‘मार्स लैंडर’ शामिल होंगे।

This post has already been read 2465 times!

Sharing this

Related posts