ममता बनर्जी को समझना चाहिए वह बांग्लादेश की राष्ट्रपति नहीं, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री हैंः भाजपा

रांची। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को समझना चाहिए कि वह बांग्लादेश की राष्ट्रपति नहीं, बल्कि पश्चिम बंगाल की भारत के राज्य पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री हैं। बुधवार को वे रांची के पार्टी मुख्यालय में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। पत्रकारों से बातचीत के दौरान प्रतुल ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को आतंक बनर्जी तक की संज्ञा दे दी। कहा, ममता बनर्जी ने सारी संवैधानिक संस्थाओं की धज्जियां उड़ा दी है। जिस संविधान के तहत वो चुनकर आई हैं उसके प्रति उन्होंने अपना पूरा विश्वास दिखा दिया है। सर्वोच्च न्यायालय ने कोलकाता के पुलिस कमिश्नर को अनुसंधान में सहयोग करने की हिदायत देकर ममता बनर्जी सरकार को शर्मसार कर दिया। शाहदेव ने कहा कि ममता बनर्जी जानती हैं कि आगामी चुनाव में पश्चिम बंगाल में उनकी स्थिति बदतर होने वाली है। इसी कारण वह तरह-तरह के हथकंडे अपना रही हैं। पंचायत चुनाव में उनके कार्यकर्ताओं ने लोकतंत्र की हत्या कर दी थी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कार्यक्रम की अनुमति देने के संबंध में दिनभर नौटंकी करके ममता बनर्जी ने दिखा दिया कि उन्हें भाजपा से डर लगता है। इसके पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के कार्यक्रम में भी इसी तरीके का व्यवधान उत्पन्न कर चुकी है। प्रतुल ने कहा कि ममता की राजनीतिक जीवन का फाइनल काउंट डाउन शुरू हो गया है और अगले चुनाव में पश्चिम बंगाल से तृणमूल कांग्रेस का सूपड़ा साफ होने वाला है। आतंक के सहारे और संवैधानिक संस्थाओं की धज्जियां उड़ा कर कोई व्यक्ति लोकतंत्र में शासन नहीं कर सकता। उन्होंने कहा कि चिटफंड घोटाले में बड़ी संख्या में संथाल परगना के आदिवासियों को बेवकूफ बना कर उनके पैसे की ठगी की गई थी।आज झारखंड मुक्ति मोर्चा के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के पक्ष में खड़े हैं जिनकी पार्टी झामुमो के अधिकांश नेता चिटफंड घोटाले में शामिल हैं। इससे साफ प्रतीत होता है हेमंत सोरेन को संथाल परगना के आदिवासियों से कोई लगाव नहीं है। सिर्फ राजनीतिक लाभ और व्यक्तिगत स्वार्थ सिद्धि के लिए वे किसी हद तक जा सकते हैं। प्रेस कॉन्फ्रेंस में प्रदेश मीडिया प्रभारी शिवपूजन पाठक भी मौजूद थे।

This post has already been read 7126 times!

Sharing this

Related posts