भारत का पहला ह्यूमनॉइड सिक्योरिटी रोबोट बनाया

रांची: प्रतिभा उम्र की मोहताज नहीं होती यह बात साबित किया है ,हमजा रहमान पिता खलीलुर रहमान, नजीर अली लेन, रांची ने मानव रूप में सबसे पहले सिक्योरिटी रोबोट का निर्माण कर देश और संस्थान की सुरक्षा के लिए एक बड़ा पहल किया है। यह रोबोट सिक्योरिटी गार्ड का जितना भी काम होता है वह सब कर सकता है , जो की एक एडवांस्ड बूट पर आधारित है और तुरंत आपकी संपत्ति की सुरक्षा करने के लिए तैयार रहता है । इस रोबोट में खूबी है कि यह आपके क्षेत्र में आसपास एरिया में लगातार पेट्रोलिंग कर इसकी सुरक्षा करता है। यह बैंक, ऑफिस, संस्थान की सुरक्षा करता है।हमजा ने इस रोबोट का नाम हेर – रा रखा है। हमजा रहमान बचपन से ही हमेशा कुछ ना कुछ नई खोज में लगे रहते हैं , उन्होंने पहले भी कई अलग-अलग तरह के रोबोट का निर्माण किया है। उन्होंने पहले भी सुरक्षा पर आधारित कई रोबोट का निर्माण किया है। यह रोबोट सिक्योरिटी सिस्टम सेंसस पर काम करता है। हमजा अपनी 10th क्लास डीपीएस रांची से या 12th क्लास गुरु नानक स्कूल से पास की। वह भविष्य में रोबोटिक इंजीनियरिंग की पढ़ाई करना चाहते हैं । ऐसी प्रतिभा को सरकारी सहायता कर उन्हें प्रतिभा को निखारने की जरूरत है ,जिससे कि देश की सुरक्षा पर नए-नए आविष्कार हो सके और देश मजबूत हो सके। और एक भविष्य का एपीजे अब्दुल कलाम जन्म ले सके।

This post has already been read 609 times!

Sharing this

Related posts